कांग्रेस के बागी नेता निर्मल सिंह और बेटी चित्रा आप में होंगे शामिल, आज दिल्‍ली में पार्टी करेंगे ज्‍वाइन

5 अक्टूबर 2019 को कांग्रेस से बागी हुए पूर्व राजस्व मंत्री निर्मल सिंह ने हाथ का साथ छोड़ने के करीब ढाई साल बाद आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया है। निर्मल सिंह और उनकी बेटी चित्रा सरवारा आज दिल्ली में आम आदमी पार्टी को ज्वाइन करेंगी। करीब 200 से ज्यादा गाडिय़ों का काफिला वीरवार सुबह छह बजे अंबाला छावनी से उनके साथ दिल्ली रवाना होगा।

आम आदमी पार्टी की पंजाब में हुई प्रचंड जीत के बाद से ही निर्मल सिंह की आम आदमी पार्टी से नजदीकियां जगजाहिर होने लगी थी। बता दें कि विधानसभा चुनाव 2019 में टिकट न मिलने से खफा कांग्रेसी निर्मल सिंह पार्टी से बागी हो गए थे। इसके बाद 5 अक्टूबर 2019 को उनकी बेटी चित्रा सरवारा ने अंबाला कैंट विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर नामांकन भरा था। इसके बाद 4 नवंबर 2020 को निर्मल सिंह ने अपनी राजनीतिक पार्टी का गठन कर 43 साल बाद कांग्रेस को विधिवत रूप से अलविदा कह दिया था।

चार बार रहे विधायक

निर्मल सिंह चार बार विधायक और दो बार पूर्व मंत्री रह चुके हैं। उत्तर हरियाणा के कई मुद्दों को लेकर निर्मल लंबे समय से संघर्षरत रहे हैं। भूपेंद्र सिंह हुड्डा के करीबी होने का बड़ा फायदा उन्हें तब मिला जब लोकसभा चुनाव 2019 में हुड्डा उन्हें कुरुक्षेत्र लोकसभा सीट से टिकट दिलवाने में कामयाब रहे। मगर मोदी लहर के चलते निर्मल लोकसभा चुनाव हार गए।

उसके बाद निर्मल सिंह ने अंबाला कैंट सीट से गृहमंत्री अनिल विज के खिलाफ अपनी पार्षद बेटी चित्रा सरवारा के लिए कांग्रेस हाईकमान से टिकट मांगा। पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी चित्रा की टिकट के लिए हाईकमान पर काफी दबाव बनाया। मगर अंबाला लोकसभा की सभी नौ विधानसभा सीटों के टिकट वितरण में अंबाला की पूर्व लोकसभा सांसद एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा की ही चली थी। लिहाजा चित्रा का टिकट कट गया था। इसी बात से नाराज होकर खुद चुनाव न लडऩे का एलान करने वाले पूर्व मंत्री निर्मल सिंह ने खुद को अंबाला शहर और बेटी चित्रा को अंबाला कैंट सीट पर आजाद उम्मीदवार के रूप में उतार दिया था। दोनों बाप-बेटी की इस बगावत का नतीजा यह रहा था कि दोनों ही सीटों पर कांग्रेस की जमानत जब्त हो गई थी। इसके बाद अंतत: निर्मल सिंह ने अपनी नई पार्टी का गठन कर दिया है।