कुमारी सैलजा के आयोजन से दूर रहे भूपेंद्र सिंह हुड्डा के विधायकों को मिलेंगे नोटिस, हरियाणा कांग्रेस में बढ़ने लगी खींचतान

हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर बदलाव की अटकलों के बीच कुमारी सैलजा और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बीच खींचतान बढ़ने लगी है। पंजाब व उत्तराखंड की तर्ज पर हरियाणा कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष कुमारी सैलजा को बदले जाने की अफवाह के बीच हाईकमान ने निर्णय लिया है कि पार्टी के अधिकृत कार्यक्रमों से दूरी बनाने वाले विधायकों तथा पार्टी नेताओं से जवाब मांगा जाएगा।

ऐसे तमाम विधायकों व पार्टी नेताओं को कांग्रेस प्रभारी की ओर से कारण बताओ नोटिस जारी होंगे। हालांकि कांग्रेस विधायकों के पास हाईकमान के हर नोटिस का जवाब होता है, लेकिन इन नोटिस के मिलने के बाद हुड्डा व सैलजा समर्थकों में खींचतान कम होने की बजाय बढ़ेगी ही।

कांग्रेस प्रभारी विवेक बंसल और कुमारी सैलजा ने सात अप्रैल को चंडीगढ़ में महंगाई के खिलाफ पार्टी के प्रदर्शन का नेतृत्व किया था, जिसमें अधिकतर हुड्डा समर्थक विधायक नहीं पहुंचे थे। खुद भूपेंद्र हुड्डा, कुलदीप बिश्नोई और किरण चौधरी भी इस प्रदर्शन से गायब रहे।

हुड्डा ने तो यहां तक कहा था कि जरूरी नहीं है कि वह हर कार्यक्रम में शामिल हों। उनकी दिल्ली मीटिंग है और उन्हें जाना है। चंडीगढ़ में हुए कांग्रेस के प्रदर्शन से पहले चार अप्रैल को हरियाणा कांग्रेस कमेटी और कांग्रेस विधायक दल की अलग-अलग बैठकें हुई।

चंडीगढ़ में हुई प्रदेश कांग्रेस कमेटी की बैठक में विवेक बंसल और कुमारी सैलजा शामिल हुए, जबकि दिल्ली में हुई बैठक पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने ली। चंडीगढ़ की बैठक में कांग्रेस के सात विधायक शामिल हुए थे, जिनमें तीन हुड्डा समर्थक थे, लेकिन वह अपनी हाजिरी लगाने के बाद दिल्ली की बैठक में भागीदारी करने चले गए थे।

पार्टी की इस गुटबाजी पर तब विवेक बंसल ने कहा था कि राजधानी चंडीगढ़ पर पंजाब के दावे का विरोध करने व एसवाईएल पर अपना हक जताने के लिए एक रणनीति के तहत चंडीगढ़ व दिल्ली में बैठकें आयोजित की गई हैं। इन दोनों कार्यक्रमों के दौरान हुड्डा व सैलजा में वाकयुद्ध भी चला।

हुड्डा ने कहा कि जिस व्यक्ति में ईगो है, उसे ईगो छोड़ देनी चाहिए, जबकि सैलजा ने कहा कि वह जन्मजात कांग्रेसी हैं और उनकी कोई ईगो नहीं है। इसी बीच खबर आई कि राजा वडिंग को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जा चुका है। इसके चलते सोमवार को अफवाह उड़ी कि सैलजा ने हाईकमान को अपना इस्तीफा देने की पेशकश की है, जिसकी पुष्टि हाईकमान ने नहीं की है।

इस बीच पार्टी हाईकमान के निर्देश पर हरियाणा के मामलों के प्रभारी विवेक बंसल ने उन विधायकों से जवाब तलब करने का निर्णय लिया है, जो हाल ही में हुए कार्यक्रमों में नहीं पहुंचे थे। कुमारी सैलजा ने पैदल यात्रा करने व हुड्डा ने विपक्ष आपके समक्ष कार्यक्रम चलाने का ऐलान कर रखा है।

हुड्डा का अगला विपक्ष आपके समक्ष कार्यक्रम 24 अप्रैल को फरीदाबाद में होगा। हाईकमान ने पिछले दिनों कुलदीप बिश्नोई और कुलदीप शर्मा के बीच इंटरनेट मीडिया पर छिड़े वाकयुद्ध को भी गंभीरता से लिया है। माना जा रहा है कि कुलदीप शर्मा और कुलदीप बिश्नोई दोनों से जवाब मांगा जा सकता है।