लखीमपुर में चिकित्‍सकों की लापरवाही, युवक को कोविड के टीके की जगह लगा दिया एंटी रेबीज इंजेक्शन

यूपी के लखीमपुर खीरी में एक बेहद चौकाने वाला मामला सामने आया है, जहां कोविड की दूसरी डोज लगवाने गए एक युवक को सीएचसी के कर्मचारियों ने एंटी रेबीज वैक्सीन लगा दी। युवक के परिजनों ने कुत्ते की वैक्सीन लगा दिए जाने की शिकायत की है।

यह मामला लखीमपुर खीरी के फूलबेहड़ सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र का है, जहां पर शिवम जायसवाल नाम का युवक अपने कोविड वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने गया था। उसका आरोप है कि वहां पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी ने एंटी रैबीज (कुत्ता काटने) का इंजेक्शन लगा दिया। पीड़ित युवक ने मामले की शिकायत उच्चाधिकारियों से की है। हालांकि सीएचसी अधीक्षक का कहना है टीका लगने से कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा। शिवम को कोई स्वास्थ्य खतरा नहीं है। यह रेबीज के खिलाफ उनके लिए एक एहतियाती खुराक के रूप में काम करेगा।

बताया जाता है जहां एंटी रेबीज का टीका लग रहा था। वहीं लाइन में युवक भी खड़ा हो गया। टीका लगा रहे कर्मचारी ने उसे भी टीका लगा दिया। मामले की जानकारी होने पर सीएचसी अधीक्षक ने बताया कि रैबीज का टीका लग गया है। लेकिन इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा। पीड़ित युवक ने उच्चाधिकारियों से शिकायत की है।

लखीमपुर खीरी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाा. शैलेंद्र भटनागर ने कहा कि उन्होंने नोडल अधिकारी डाा. वीपी पंत को जांच का आदेश दिया है। यहां तक ​​​​कि उन्होंने कहा कि जायसवाल को मिली खुराक “रेबीज के खिलाफ एहतियाती खुराक” के रूप में काम करेगी।