राजनाथ बोले- किसान अन्नदाता, उन्हें बदनाम ना करें, आंदोलनकारियों को नक्सली या खालिस्तानी कहने को गलत बताया

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि किसान अन्नदाता और देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। किसान आंदोलन के संदर्भ में उन्हें नक्सली और खालिस्तानी कहना गलत है। किसी को भी किसानों को बदनाम नहीं करना चाहिए। एक विशेष साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन से सरकार को बहुत दुख पहुंचा है। ये पूछे जाने पर कि आंदोलनकारियों को नक्सल और खालिस्तानी कहा जा रहा है, उन्होंने कहा कि हम किसानों का बहुत सम्मान करते हैं।

अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं किसान

रक्षा मंत्री ने कहा कि वह किसानों के सम्मान में हमेशा अपना शीश झुकाते हैं। वे अन्नदाता हैं। अर्थव्यवस्था पर संकट आने पर उसे उबारने की जिम्मेदारी किसान ही उठाते हैं। वे अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। कृषि कानूनों को लेकर जो किसान आंदोलन कर रहे हैं उन्हें सरकार से उन बिंदुओं पर तार्किक बात करनी चाहिए जिस पर उन्हें आपत्ति है। बातचीत में यदि लगा कि कोई मुद्दा किसानों के हित के खिलाफ है सरकार उसमें संशोधन करेगी।

गरीबों के हित में काम कर रही सरकार

उन्होंने कहा कि सरकार गरीबों और वंचितों के हित में काम कर रही है। लेकिन कुछ ताकतों ने किसानों को भ्रमित कर दिया है। मेरा मानना है कि किसानों को आपत्ति वाले एक-एक बिंदु पर सरकार के साथ बैठकर बात करनी चाहिए और हर बिंदु पर हां या ना में जवाब लेना चाहिए। किसान इन कानूनों को प्रयोग के तौर पर दो साल के लिए लागू होने दें और फिर देखें कि इनसे उन्हें फायदा होता है या नुकसान। जरूरत होने पर हम इनमें आवश्यक सुधार करने को तैयार हैं

किसानों की आय दोगुना करने पर जोर

राजनाथ सिंह ने कहा कि किसान यदि चाहते हैं कि कुछ निश्चित बिंदुओं पर विशेषज्ञ बात करें तो हम उसके लिए भी तैयार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों का हित चाहते हैं। कैबिनेट का वरिष्ठ सदस्य होने के नाते मुझे कई मुद्दों पर उनके साथ चर्चा का मौका मिला है। वे 2014 चुनाव के पहले से ही किसानों की आय दोगुना करना चाहते थे। किसानों के हित को ध्यान में रखते हुए ही ये तीनों कृषि कानून लाए गए हैं।

एमएसपी व्यवस्था लागू रहेगी

रक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार बार-बार कह रही है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था लागू रहेगी। फिर हम अपने वादे से कैसे मुकर सकते हैं। लोकतांत्रिक व्यवस्था में अगर नेता अपने वादों से मुकरेगा तो जनता अपने तरीके से उसे सबक सिखा देगी। उन्होंने कहा कि किसानों के आंदोलन को लेकर हम असंवेदनशील नहीं हैं। किसानों को आंदोलन करते देख न केवल मैं बल्कि प्रधानमंत्री मोदी भी बहुत दुखी हैं। सिख भाइयों ने इस देश की रक्षा के लिए बहुत बलिदान दिया है। हमें उनकी निष्ठा पर कोई संदेह नहीं है।

रक्षा मंत्री ने यह भी कहा

1- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक व्यक्ति नहीं अपने आप में संस्था हैं। आंदोलन के नाम पर उनके खिलाफ अपशब्दों का प्रयोग करना गलत है।

2- किसान आंदोलन में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो का टिप्पणी करना गलत था। ऐसा करने का किसी को अधिकार नहीं।

3- मैं किसान मां का बेटा हूं। खेती-किसानी के बारे में मैं कांग्रेस नेता राहुल गांधी से ज्यादा जानकारी रखता हूं।

4- किसान आंदोलन के नाम पर पंजाब में मोबाइल टावरों को नुकसान पहुंचाना गलत है। हमारे किसान भाइयों को देखना चाहिए ऐसा न हो। तोड़फोड़ रुकनी चाहिए।

5- सीमा विवाद को लेकर चीन के साथ चल रही बातचीत का अभी कोई ठोस नतीजा सामने नहीं आया है। यथास्थिति कायम रहने तक सेना की तैनाती में कमी नहीं की जाएगी।

6- जम्मू-कश्मीर के स्थानीय निकाय चुनाव में आतंकवाद और अलगाववाद हारा है और लोकतंत्र जीता है।

7- अपनी सुरक्षा के लिए भारत बहुत सचेत है। सीमा पर गड़बड़ी करने वाले को कतई बख्शा नहीं जाएगा।

10- विपक्षी दल अपने खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगा रहे हैं। उसके पीछे वे अपनी कमजोरी छुपाना चाहते हैं। जब हम हर राज्य में चुनाव जीत रहे हैं तो ऐसा क्यों करेंगे।

यूपी के धर्म परिवर्तन विरोधी कानून का किया समर्थन

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में उप्र सरकार द्वारा लागू किए गए धर्म परिवर्तन कानून का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि मैं शादी के लिए धर्म बदलने की बात का निजी रूप से समर्थन नहीं करता। उन्होंने कहा कि शादी के लिए धर्म परिवर्तन क्यों किया जाए। धर्म परिवर्तन की प्रथा रुकनी चाहिए। जहां तक मुझे जानकारी है इस्लाम धर्म में किसी को दूसरे धर्म में विवाह की अनुमति नहीं है।

बलपूर्वक या लालच देकर कराया जाता है धर्म परिवर्तन

राजनाथ सिंह ने कहा कि सामान्य विवाह और धर्म परिवर्तन कर किए गए विवाह में अंतर है। ज्यादातर मामलों में डरा धमकाकर, बलपूर्वक या लालच देकर धर्म परिवर्तन कराया जाता है। ऐसे में जो सरकारें जबरन धर्म परिवर्तन के खिलाफ कानून लेकर आई हैं उन्होंने इन बातों का ध्यान जरूर रखा है। उन्होंने यह भी कहा कि एक सच्चा हिंदू जाति, धर्म और संप्रदाय के नाम पर कोई भेदभाव नहीं करता। हमारे धर्मग्रंथों में भी इस प्रकार के भेदभाव की अनुमति नहीं है। दुनिया में सिर्फ भारत ही ऐसा देश है जिसने वसुधैव कुटुंबकम् का संदेश दिया।