CBI Team in Hathras: हाथरस में आरोपितों के घर पहुंची सीबीआइ टीम, स्वजनों से कर रही पूछताछ

 हाथरस के बूलगढ़ी के चर्चित कांड की जांच रही सीबीआइ की टीम ने गुरुवार को दिन में करीब 11 बजे से अपनी पड़ताल शुरू कर दी है। कथित सामूहिक दुष्कर्म के दौरान मारपीट के बाद इलाज के दौरान दलित युवती की मौत के मामले की जांच कर टीम ने गुरुवार को फिर बूलगढ़ी गांव में डेरा डाला है।

सीबीआइ की टीम यहां पर चारों आरोपितों के स्वजनों ने पूछताछ कर रही है। इसके बाद टीम का पीड़िता की मां तथा भाभी से भी पूछताछ की योजना है। सीबीआइ की टीम आज ही आरोपितों को अपनी रिमांड पर लेकर या जेल में ही पूछताछ करने के लिए कोर्ट में याचिका दायर कर सकती है। हाथरस में सीबीआइ की एक टीम चंदपा कोतवाली पहुंची है। यह टीम यहां पर पुलिस कॢमयों से पूछताछ कर रही है।

प्रकरण की जांच कर रही सीबीआइ की टीम गुरुवार की सुबह करीब 11 बजे चारों आरोपितों के घर पहुंच गई है। आरोपितों के स्वजन से पूछताछ की जा रही है। गांव में सुरक्षा का घेरा भी सख्त है। इस पूछताछ के साथ साक्ष्य भी एकत्रित किए जा रहे है। दूसरी ओर मृतका के घर पर भी पुलिस का कड़ा पहरा है। बुधवार को सीबीआइ ने अपने अस्थाई कैंप कार्यालय पर मृतका के स्वजन बुलाकर जानकारी की थी। आरोपितों में रामू, रवि, संदीप एक ही जगह पर रहते हैं। तीनों एक ही परिवार के है। एक ही परिसर में रहते है, जबकि लवकुश का घर अलग है। सीबीआइ की टीम चारों आरोपितों के स्वजन से अलग-अलग पूछताछ कर रही है।

हाथरस केस में सीबीआई गुरुवार को एक बार फिर पीड़ित परिवार के सदस्यों से पूछताछ कर सकती है। इस दौरान परिवार के सदस्यों के बयान दर्ज किए जा सकते हैं। इसमें भी पूछताछ का फोकस पीडि़ता की भाभी और मां से पूछताछ पर रहेगा। साथ ही जांच एजेंसी हाथरस केस से जुड़े उन सभी लोगों को समन भेजेगी, जिनका जिक्र इस मामले में कभी न कभी हुआ है। टीम ने बुधवार को एफआइआर दर्ज कराने वाले पीड़िता के भाई से करीब सात घंटा तक पूछताछ की थी।

पड़ताल में जुटी जांच एजेंसी अब यह जानना चाहती है कि 14 सितम्बर को क्या हुआ था। इसकी पूरी तरह से तस्दीक करने के लिए एक बार परिवार के सभी सदस्यों को एक साथ बैठा कर क्रॉस एग्जामिनेशन भी कर सकती है। जांच में घटना वाले दिन पर सीबीआई इस कारण भी फोकस कर रही है, क्योंकि घटना के संबंध में मृत युवती के परिवार के लोग पुलिस को दिए गए बयान लगातार बदलते रहे हैं।

सीबीआई की टीम ने इससे पहले मंगलवार को घटनास्थल के बाद सीधा अंत्येष्टि स्थल का रुख किया था। इसके बाद पीडि़ता के घर पहुंची थी। पीड़िता की मां से सीबीआइ ने उनके अस्पताल से वापसी के समय ही मंगलवार को घटनास्थल पर ही पूछताछ की थी।