उपलब्धि : फ्रांस में भारतीय Rupay कार्ड और UPI से कर पाएंगे लेनदेन, भारत-फ्रांस के बीच हुआ करार

वैश्विक स्तर पर भारतीय रुपे कार्ड (Rupay Card) और UPI पेमेंट सिस्टम को नई पहचान मिल रही है। दरअसल नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी NPCI और इंटरनेशनल और फ्रांस के लायरा नेटवर्क (Lyra Network) के बीच एक एमओयू साइन किया गया है, जिससे जल्द फ्रांस में भारतीय रुपे कार्ड (Indian Rupay Card) और यूपीआई (UPI) सिस्टम से लेनदेन करना संभव होगा। केंद्रीय संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि रुपे कार्ड और UPI को फ्रांस में इस्तेमाल को लेकर एक करार किया गया है। वैष्णव ने बताया कि इसे एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखना चाहिए। बता दें कि भारत यूपीआई पेमेंट में मामले में काफी आगे हैं। देश में हर माह में करीब 5.5 बिलियन यूपीआई लेनदेन किए जा रहे हैं।

भारतीय रुपे कार्ड की धमक वैश्विक स्तर पर तेजी से बढ़ रही है। फ्रांस से पहले सिंगापुर, भूटान, नेपाल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) जैसे देशों में रुपे कार्ड से लेनदेन शुरू हो चुका है। रुपे कार्ड भारत का पहला ऐसा डोमेस्टिक डेबिट और क्रेडिट कार्ड पेमेंट नेटवर्क है जिसका इस्तेमाल एटीएम, POS मशीन और ई कॉमर्स साइट पर आसानी से किया जा सकता है।

पीएम मोदी की तरफ से भारतीय रुपे कार्ड को हमेशा से प्रमोट किया गया है। लेकिन डेबिड और क्रेडिट कार्ड पेमेंट सर्विस मास्टरकार्ड (Mastercard) और वीसा (Visa) जैसी विदेशी कंपनियां रुपे कार्ड का विरोध करती रही हैं। मास्टरकार्ड और वीसा का आरोप था कि पीएम मोदी की तरफ से देशभक्ति का आगे रखकर रुपे कार्ड को प्रमोट किया जा रहा है।

रुपे कार्ड की शुरुआत 8 मई 2014 को हुई थी। हालांकि NPCI ने रुपे सर्विस अप्रैल 2013 में ही शुरू कर दिया था। रुपे कार्ड 15 तरह के कार्ड जारी करता है, जिसमें तीन क्रेडिट कार्ड, छह डेबिट कार्ड, एक ग्लोबल कार्ड, चार प्रीपेड कार्ड और एक कांटेक्टलेस कार्ड शामिल है। क्रेडिट और डेबिट कार्ड के अलावा रुपे कार्ड चार तरह के प्रीपेड कार्ड भी देता है। जिनमें गिफ्ट कार्ड, पेरोल कार्ड, स्टूडेंट कार्ड, वर्चुअल कार्ड हैं।