Hathras Case News: हाथरस कांड की जांच कर रही SIT ने पूरी की पड़ताल , जल्द ही सौंपेगी सरकार को रिपोर्ट

हाथरस में दलित युवती के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म के दौरान मारपीट तथा उसकी मौत के कारणों की जांच कर रही प्रदेश सरकार की स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआइटी) ने अपनी पड़ताल पूरी कर ली है। अब यह टीम प्रदेश सरकार को अपनी रिपोर्ट देगी। माना जा रहा है कि शनिवार तक सरकार को रिपोर्ट सौंपी जाएगी।

हाथरस कांड की जांच करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर एसआईटी गठित की गई। गृह सचिव भगवान स्वरूप के नेतृत्व में डीआइजी चंद्रप्रकाश तथा एसपी पूनम ने इस प्रकरण की जांच शुरू की। इनको सात दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपने का निर्देश था, उस सात दिन के अलावा टीम को जांच पूरी करने के लिए दस दिन का अतिरिक्त समय दिया गया। एसआईटी ने इस दौरान अपनी पड़ताल के दौरान हाथरस के बूलगढ़ी गांव में सौ से अधिक लोगों के बयान दर्ज करने के साथ चंदपा थाना के कर्मियों, हाथरस जिला अस्पताल तथा अलीगढ़ के मेडिकल कालेज प्रबंधन से भी वार्ता की। बूलगढ़ी गांव में बयान दर्ज कराने वालों में पीडि़त परिवार के सदस्य, आरोपित व उनके परिवार के लोगों के साथ पुलिस व प्रशासन के अधिकारी शामिल हैं। एसआईटी की ओर से रिपोर्ट लिखने का काम चल रहा है, जिसे 17 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश सरकार को सौंपा जाएगा।

हाथरस के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को दलित युवती के साथ कथित रूप से सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। इस दौरान मारपीट में गंभीर रूप से घायल दलित युवती ने 29 सितंबर को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था। उसके बाद जिस तरह हाथरस में आनन-फानन में युवती का अंतिम संस्कार किया गया, उसपर काफी विवाद हुआ था। माहौल में तनाव होने के कारण ही सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर तत्काल तीन सदस्यीय एसआइटी का गठन किया गया। एसआईटी की शुरुआती जांच के आधार पर ही हाथरस के एसपी विक्रांतवीर तथा सीओ को सस्पेंड किया गया था और अन्य कुछ अधिकारियों पर एक्शन लिया गया था।