North Eastern Railway: एचआरएमएस एप के पेच में फंसा पचास हजार रेलकर्मियों का पीएफ

ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम (एचआरएमएस) के पेच में पूर्वोत्‍तर रेलवे के करीब पचास हजार कर्मियों का पीएफ (कर्मचारी भविष्य निधि) फंस गया है। रेलवे प्रशासन ने बिना तैयारी के मैनुअल (हाथ से प्रस्तुत किया गया आवेदन) व्यवस्था बंद कर एचआरएमएस एप पर आनलाइन आवेदन अनिवार्य कर दिया है।

यह हो रही परेशानी

ऐसे में पीएफ निकालने वाले रेलकर्मियों की परेशानी बढ़ गई है। अधिकतर कर्मचारी आनलाइन आवेदन करना नहीं जानते। जो जानते हैं, उनके मोबाइल पर एचआरएमएस खुल ही नहीं रहा। इसको लेकर कर्मचारियों में आक्रोश है। रेलवे प्रशासन 13 जनवरी से ही पीएफ के लिए मैनुअल आवेदन स्वीकार नहीं कर रहा। विभाग में आवेदन करने पहुंचे रेलकर्मी निराश लौट रहे हैं। यह तब है जब पूर्वोत्तर रेलवे में पीएफ के लिए रोजाना 400 से 500 आवेदन होते हैं। आवेदन स्वीकार नहीं होने से उनकी परेशानी बढ़ती जा रही है।

एनई रेलवे मजदूर यूनियन (नरमू) के महामंत्री केएल गुप्त का कहना है कि रेलवे प्रशासन ने मैनुअल व्यवस्था बंद करने की कोई जानकारी नहीं दी। विभाग में कर्मचारियों को इसको लेकर कोई दिशा-निर्देश भी जारी नहीं हुआ। सिस्टम को अपडेट किए बिना व्यवस्था को आनलाइन कर दिया गया है। एचआरएमएस में कर्मचारियों का सही विवरण तक दर्ज नहीं है। रेलवे प्रशासन से व्यवस्था को दुरुस्त करने की मांग की गई है। यथाशीघ्र व्यवस्था दुरुस्त नहीं हुई तो आंदोलन तय है।

सिस्टम को बिना अपडेट किए ही पीएफ निकासी व्यवस्था को भी आनलाइन कर दिया गया

दरअसल, एचआरएमएस पर 1 जनवरी 2021 से ई पास भी बनना था। सिस्टम पर ई पास तो बनना शुरू नहीं हुआ लेकिन मैनुअल पर रोक लगा दी गई। प्रकरण बोर्ड तक पहुंचा तो कर्मचारियों को राहत मिली। अब 28 फरवरी तक मैनुअल पास भी जारी होंगे। इसी तरह रेलवे प्रशासन ने बोर्ड के दबाव में सिस्टम को बिना अपडेट किए ही पीएफ निकासी व्यवस्था को भी आनलाइन कर दिया है। ऐसे में कर्मचारियों की समस्या बढ़ गई है। जानकारों का कहना है कि पूर्वोत्तर रेलवे में 50 हजार कर्मी हैं। अधिकतर अपना कार्य पीएफ से ही करते हैं। सबसे अधिक परेशानी रेल लाइनों पर कार्य करने वाले कर्मचारियों को हो रही है।

रेलवे डिजिटलीकरण की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसी क्रम में कर्मचारी कल्याण को और बेहतर करने के लिए एचआरएमएस तैयार किया गया है। इसके माध्यम से ई पास बनने की सुविधा भी शुरू हो गई है। इस दिशा में एक कदम और आगे बढ़ते हुए पीएफ निकासी की सुविधा को भी एचआरएमएस के जरिये शुरू कर दिया गया है। इससे पारदर्शिता बढ़ने के साथ कम समय मे ही कार्य सरलता से हो जाएंगे ।