भाजपा ने द्रमुक सरकार पर कानून व्यवस्था में विफल होने का लगाया आरोप, कहा- तमिलनाडु में सुरक्षित नहीं हैं लोग

द्रमुक सरकार पर कानून व्यवस्था बनाए रखने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए तमिलनाडु भाजपा प्रमुख के. अन्नामलाई ने मंगलवार को आरोप लगाया कि राज्य में लोग सुरक्षित नहीं हैं। यहां 1998 के सिलसिलेवार विस्फोटों के पीडि़तों को पुष्पांजलि अर्पित करने के लिए बड़ी संख्या में जुटे लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने दावा किया कि 2021 में द्रमुक के सत्ता में आने के बाद अपराध दर में वृद्धि हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि द्रमुक के नेतृत्व वाली सरकार लोगों, उनकी संपत्तियों और जीवन की रक्षा करने में ‘विफल’ रही है।

1998 में सिलेसिलेवार धमाकों में 50 से अधिक लोगों की मौत

उल्लेखनीय है 14 फरवरी, 1998 को शहर में हुए सिलसिलेवार धमाकों में 50 से अधिक लोगों की जान चली गई थी। भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि राज्य में सोमवार को एक ही दिन में नौ लोगों की हत्या कर दी गई, जिसमें तीन लोग कोयंबटूर के हैं। यह बिगड़ती कानून व्यवस्था और पुलिस विभाग को स्वतंत्र रूप से काम नहीं करने देने का स्पष्ट संकेत है।

सत्ता में आने पर विस्फोट पीड़ितों के लिए स्मारक बनाएगी भाजपा

अन्नामलाई ने कहा कि भाजपा विस्फोट पीडि़तों के लिए एक स्मारक बनाने के लिए सरकार से अपील नहीं करेगी, क्योंकि उसने हमारी मांग को अनसुना कर दिया है। हालांकि, इस घटना के 25 साल बीत चुके हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा जब तमिलनाडु की में सत्ता में आएगी तो एक स्मारक बनाएगी।

तमिलनाडु में 24 लोकसभा सीटें जीतने का लक्ष्य

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि इसके अलावा, भाजपा सिलसिलेवार विस्फोटों में घायल हुए लोगों को पेंशन देने के लिए कदम उठाएगी, जिससे उनकी रोजी-रोटी प्रभावित हुई। उन्होंने कहा कि पार्टी 2024 के लोकसभा चुनावों में तमिलनाडु से कम से कम 24 लोकसभा सीटें जीतने का लक्ष्य बना रही है।