पानीपत के युवक की नूंह में मौत:हिंसा में लगी थी गोली, 99 लोग सुरक्षित घर पहुंचे; बोले- मंजर बेहद खतरनाक, बयां नहीं कर सकते

हरियाणा के नूंह में सोमवार को हुई हिंसा के दौरान गोली लगने से घायल हुए पानीपत के युवक ने दम तोड़ दिया है। मृतक की पहचान अभिषेक (24-25) निवासी नूरवाला, पानीपत के रूप में हुई। अब वहां सभी प्रक्रिया पूरी होने पर ही शव को वापस पानीपत लाने का प्रयास शुरू होगा।

सुरक्षित लौटे लोग दहशत में
वहीं मंदिर में फंसे पानीपत के सभी 100 लोगों को पुलिस ने अपनी बसों में रेस्क्यू किया और पुलिस लाइन ले गए थे। देर रात केंद्र से सेना के वहां पहुंचने पर सभी को पुलिस लाइन से बाहर निकाला गया। उन्हें अपने साधनों में सवार कर पानीपत के लिए रवाना किया गया।

देर रात सभी पानीपत पहुंचे। यहां उन लोगों से बातचीत करने का प्रयास किया गया, लेकिन वे सभी काफी डरे हुए थे। उनमें से एक व्यक्ति ने कहा कि वहां का मंजर बहुत खतरनाक और डराने वाला था। हाल बयां नहीं कर सकते हैं। उनका दिमाग ही काम नहीं कर रहा है।

99 लोग नूंह से सुरक्षित लौटे
विश्व हिंदू परिषद के पानीपत मंत्री पुनीत बत्रा ने बताया कि वहां से पानीपत सुरक्षित लौटे लोगों में 20 महिलाएं, 8 बच्चों समेत 99 लोग थे। हिंदू संगठनों द्वारा सोमवार को निकाली गई ब्रजमंडल यात्रा के दौरान काफी बवाल हुआ। 2 गुटों में टकराव के बाद हिंसा भड़क गई।

उपद्रवियों ने पथराव और आगजनी की। 35 से ज्यादा ज्यादा गाड़ियों को फूंक दिया गया। पुलिस पर भी पथराव किया गया। भीड़ की तरफ से गोली भी चलाई गई। इस हिंसा में पानीपत से गए 100 लोगों के जत्थे के बीच एक युवक को गोली लगी, जिसके बाद जत्थे में भी भगदड़ मच गई।

सुबह 6 बजे निकला था जत्था
पुनीत बत्रा ने बताया कि घायल युवक को तुरंत नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां देर रात उसकी मौत हो गई। यात्रा में शामिल होने के लिए सोमवार सुबह 6 बजे जत्था रवाना हुआ था। एक बस और 3 गाड़ियों में सवार होकर लोग गए थे। वह भी गए थे, लेकिन किसी कारणवश वे वापस लौट आए थे। कुछ ही देर बाद वहां हिंसा की सूचना मिली।