हरियाणा के मंत्री संदीप सिंह की बढ़ेंगी मुश्किलें:चंडीगढ़ पुलिस की चार्जशीट से खुलासा- महिला कोच से रिश्ते प्रोफेशनल से कहीं आगे थे

हरियाणा में जूनियर महिला कोच से छेड़छाड़ मामले में राज्य मंत्री संदीप सिंह की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। पुलिस के पास उनके खिलाफ अहम सबूत हैं, जिनका खुलासा चार्जशीट से हुआ है। चार्जशीट में एक बात स्पष्ट है कि संदीप ने SIT को जो बयान दिए, उनमें कई बातें मेल नहीं खा रहीं। मंत्री ने पुलिस को कहा था कि पीड़िता से उनके पर्सनल रिलेशन नहीं थे, जांच में सामने आया है कि उनके बीच रिश्ते प्रोफेशनल रिलेशन से कहीं आगे थे।

मंत्री ने पुलिस को कहा था कि पीड़िता केवल 15 मिनट के लिए उनके मेन ऑफिस के केबिन में मिली थी। पुलिस ने पीड़िता को क्राइम सीन रीक्रिएशन के लिए मंत्री के घर बुलाया तो उसने मंत्री के मेन ऑफिस, साइड रूम, बेडरूम, बाथरूम आदि की लोकेशन सही-सही बता दी।

1. रिश्ते प्रोफेशनल से कहीं आगे निकले
चार्जशीट के अनुसार, मंत्री ने पुलिस को बताया था कि उसके पीड़िता के साथ कोई पर्सनल रिलेशन नहीं थे। जांच से ये बात साबित हुई है कि उनके बीच रिश्ते प्रोफेशनल रिलेशन से कहीं आगे थे।

2. संदीप ने कहा था-ऑफिस में मिले थे हम, पीड़िता ने घर का कोना-कोना बता दिया
रिपोर्ट में बताया गया है कि मामले के बाद मंत्री ने पुलिस को कहा था कि पीड़िता केवल उनके मेन ऑफिस के कैबिन में ही उनसे मिली थी, वह भी केवल 15 मिनट के लिए। जबकि पीड़िता ने अपनी शिकायत में कहा था कि संदीप सिंह उसे एक कमरे में ले गए, जहां उसके साथ शारीरिक छेड़छाड़ की गई थी। इससे पहले वह उनके घर के वॉशरूम में भी गई थी। इसलिए जब पुलिस ने पीड़िता को जांच के लिए मंत्री के घर बुलाया तो उसने पहली बार में मंत्री के मेन ऑफिस, साइड रूम, बेडरूम, बाथरूम आदि की लोकेशन सही-सही बता दी। चार्जशीट में कहा गया है कि इससे स्पष्ट हो गया कि वह मंत्री के घर पहुंची थी और वहां उससे छेड़छाड़ हुई जबकि मंत्री ने बयानों में झूठ बोला।

3. अपॉइंटमेंट को लेकर बयान भी गलत निकले, पीड़िता पर थी गलत नीयत
चार्जशीट में मंत्री संदीप सिंह ने पुलिस को बयान दिए कि पीड़िता उनसे अप्वॉइंटमेंट लेकर मिलने आई थी। जबकि जांच में मंत्री ने कबूल किया कि पीड़िता ने अप्वॉइंटमेंट सोशल मीडिया के जरिए ली थी। तब पुलिस ने सवाल पूछा कि किसी आम इंसान को मिलना हो तो वह भी सोशल मीडिया पर अपॉइंटमेंट लेता था या फिर उनके ऑफिशियल स्टाफ के जरिए मुलाकात होती थी। ऐसे में पुलिस जांच में सामने आया कि मंत्री की पीड़िता के प्रति गलत नीयत थी।

4. विदेश भेजने वाली फाइल मंत्री तक कैसे पहुंची, कोई जवाब नहीं
पीड़िता का आरोप था कि उसे जानबूझकर ट्रेनिंग के लिए विदेश जाने से रोका गया। उसकी मंजूरी की फाइल स्पोर्ट्स विभाग के डायरेक्टर के पास जानी थी, पर उसकी फाइल मंत्री संदीप को भेजी गई और उन्होंने इसे रिजेक्ट कर दिया। चार्जशीट में लिखा गया है कि इस पर पुलिस ने संदीप सिंह और उस समय के खेल विभाग के डायरेक्टर पंकज नैन के भी बयान लिए थे, पर ये बात स्पष्ट नहीं हो सकी कि फाइल मंत्री तक कैसे पहुंची?।

चार्जशीट पर कोर्ट में 16 को सुनवाई
चार्जशीट पर 16 सितंबर को सुनवाई होगी। केस में आरोप तय किए जाने को लेकर बहस होगी। महिला कोच के एडवोकेट दीपांशु बंसल ने कहा है कि चार्जशीट में रेप के प्रयास की धारा 376/511 पुलिस ने नहीं लगाई है, उसे जोड़ने को कोर्ट से अपील करेंगे।

पीड़िता ने सिर पर पट्टी बंधी फोटो परिचित को भेजी थी
कोच का मोबाइल सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लेबोरेट्री (CFSL) में भेजा गया था। जांच में कुछ चैट्स व वॉइस रिकॉर्डिंग मिली, जिससे पता चला कि पीड़िता ने अपने साथ हुई घटना कुछ लोगों काे बताई थी। एक परिचित को 16 जुलाई 2022 को एक फोटो भेजी थी, जिसमें सिर पर पट्टी बंधी थी। पीड़िता ने बताया कि आरोपी से बचकर भागने लगी तो सिर टेबल से टकरा गया।

गिरफ्तारी के डर में अग्रिम जमानत याचिका
महिला कोच से छेड़छाड़ के मामले में फंसे राज्य मंत्री संदीप सिंह ने चंडीगढ़ डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है। इस पर कोर्ट ने पुलिस को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। याचिका पर 13 सितंबर को सुनवाई होगी।