भारत की वर्ल्ड कप टीम के 15 खिलाड़ियों का एनालिसिस:स्ट्रेंथ, वीकनेस और सिलेक्शन की वजह; क्यों बाहर हुए सैमसन, तिलक और प्रसिद्ध

भारत ने वनडे वर्ल्ड कप 2023 के लिए अपनी 15 सदस्यीय टीम घोषित कर दी है। रोहित शर्मा कप्तान और हार्दिक पंड्या उप कप्तान हैं। टीम में 5 बैटर, 2 विकेटकीपर, 5 तेज गेंदबाज और 3 स्पिनर्स हैं। इन्हीं में 4 ऑलराउंडर्स भी शामिल हैं।

एशिया कप टीम का हिस्सा तेज गेंदबाज प्रसिद्ध कृष्णा, युवा बैटर तिलक वर्मा और बैकअप विकेटकीपर संजू सैमसन वर्ल्ड कप स्क्वॉड में जगह नहीं बना सके। इस स्टोरी में हम इनके सिलेक्ट नहीं होने के पीछे वजह जानेंगे। साथ ही जानेंगे कि जिन 15 प्लेयर्स का सिलेक्शन हुआ, उसके क्या कारण रहे और उनकी स्ट्रेंथ-वीकनेस क्या है।

शुरुआत वर्ल्ड कप स्क्वॉड के 15 प्लेयर्स से…

1. रोहित शर्मा, कप्तान
36 साल के अनुभवी रोहित शर्मा वर्ल्ड कप में टीम की कप्तानी करेंगे। साल 2007 में डेब्यू करने के बाद 2013 में उन्होंने ओपनिंग करनी शुरू की। यहीं से वह परफॉर्म कर रहे हैं और लगातार टीम का हिस्सा भी हैं। रोहित अब तक 9,922 रन बना चुके हैं और 2022 से टीम के चौथे टॉप रन स्कोरर हैं। कप्तानी में रोहित ने भारत को 29 में से 21 वनडे जिताए हैं।

  • स्ट्रेंथ: दुनिया के मौजूदा बेस्ट ओपनर्स में शामिल रोहित शॉर्ट पिच गेंदों पर सबसे अच्छा खेलते हैं। सेट होने के बाद पेस और स्पिन दोनों के खिलाफ बहुत तेजी से रन बनाते हैं।
  • वीकनेस: लेफ्ट आर्म पेसर के खिलाफ पिछले 5 साल में 9 बार आउट हुए हैं। नई गेंद इन स्विंग हो कर स्टंप्स की तरफ आए तो कई बार आउट हो जाते हैं।

2. शुभमन गिल, ओपनिंग बैटर
23 साल के युवा शुभमन गिल पिछले 12 महीने से ड्रीम फॉर्म में चल रहे हैं। ओपनिंग करते हुए वह टेस्ट, वनडे और टी-20 के साथ IPL में भी शतक लगा चुके हैं। उनकी काबिलियत को देखते हुए उन्हें फ्यूचर स्टार बताया जा रहा है। शुभमन जनवरी 2022 से भारत के टॉप रन स्कोरर भी हैं और टीम में रोहित के साथ ओपनिंग करेंगे।

  • स्ट्रेंथ: पावरप्ले में अटैक करते हैं। स्क्वेयर कट, पुल, बैकफुट पंच, स्वीप, स्ट्रैट ड्राइव जैसे कई शॉट्स लगाने की काबिलियत है। इस साल तीनों फॉर्मेट में 5 सेंचुरी लगाई हैं।
  • वीकनेस: लेफ्ट आर्म पेसर के खिलाफ 3 बार आउट हो चुके हैं। लेफ्ट आर्म स्पिनर के खिलाफ भी शुरुआत में मुश्किलें होती हैं, अब तक 3 बार उनका शिकार हुए हैं।
  • 3. विराट कोहली, बैटर
    34 साल के राइट हैंड बैटर विराट कोहली 13 हजार वनडे रन पूरे करने से 98 रन दूर हैं। अनुभवी विराट ने पिछले साल एशिया कप में ही अफगानिस्तान के खिलाफ टी-20 सेंचुरी लगाकर अपने शतकों का सूखा खत्म किया था। सचिन के 49 वनडे शतक के वर्ल्ड रिकॉर्ड को तोड़ने से महज 4 सेंचुरी दूर हैं। इस बार भी नंबर-3 पर बैटिंग करेंगे और रोहित के साथ उनके कंधों पर टीम को वर्ल्ड कप जिताने की जिम्मेदारी रहेगी।

    • स्ट्रेंथ: चेज मास्टर कोहली मुश्किल से मुश्किल सिचुएशन में टीम को जिताने की काबिलियत रखते हैं। टारगेट का पीछा करते हुए 26 शतक लगाए हैं। पिछले एक साल में तीनों फॉर्मेट मिलाकर 6 सेंचुरी लगा चुके हैं।
    • वीकनेस: 2019 से लेफ्ट आर्म सीमर के खिलाफ 10 और लेफ्ट आर्म स्पिनर के खिलाफ 8 बार आउट हो चुके हैं। सेट होने के बाद भी लेग स्पिनर के सामने 6 बार अपना विकेट गंवाया है।

    4. श्रेयस अय्यर, बैटर
    28 साल के श्रेयस अय्यर नंबर-4 पोजिशन पर टीम इंडिया की पहली पसंद है। इस पोजिशन पर 2019 से उन्होंने सबसे ज्यादा रन बनाए हैं। इंजरी के कारण वह टीम से दूर थे, लेकिन अब वह पूरी तरह फिट हैं और जनवरी 2022 से टीम के दूसरे टॉप रन स्कोरर भी हैं।

    • स्ट्रेंथ: शुरुआती विकेट गिरने के बाद टीम को संभाल लेते हैं। स्पिनर्स के खिलाफ हर तरह की बॉल पर छक्का लगाने की काबिलियत है। लेफ्ट आर्म पेसर के खिलाफ 137 के स्ट्राइक रेट से रन बनाते हैं।
    • वीकनेस: शॉर्ट बॉल और लेग स्पिनर के खिलाफ कई बार फंसते हैं। इंजरी से लौटे हैं और अब तक फॉर्म में लौटे हैं या नहीं इसका पता नहीं चल सका है।

    5. सूर्यकुमार यादव, बैटर
    32 साल के विस्फोटक बैटर सूर्यकुमार यादव का सिलेक्शन उनके टी-20 फॉर्म के आधार पर किया गया है। मैनेजमेंट का मानना है कि उनकी विस्फोटक शॉट्स मारने की क्षमता को टीम फिनिशिर के रूप में इस्तेमाल कर सकती है। वह टीम में बैकअप मिडिल ऑर्डर बैटर के रूप में शामिल किए गए हैं।

    • स्ट्रेंथ: टी-20 रैंकिंग के नंबर-1 बैटर सूर्यकुमार सभी तरह के गेंदबाजों के खिलाफ 360 डिग्री दिशा में शॉट्स खेलते हैं। टीम में सबसे तेज गति से रन बनाने की काबिलियत इन्हीं के पास है।
    • वीकनेस: वनडे फॉर्मेट में ढल नहीं सके हैं। 26 वनडे खेले, लेकिन 24.33 के मामूली औसत से 511 रन ही बना सके। इसी साल 3 बार लगातार पहली गेंद पर आउट हो चुके हैं।