G20 समिट ह्यूमन सेंट्रिक इनक्लूसिव डेवलपमेंट को आगे ले जाएगी:PM मोदी ने जताया भरोसा, कहा- दुनिया में शांति के लिए मिलकर काम करेंगे

PM नरेन्द्र मोदी ने G20 समिट के पहले भरोसा जताया है कि यह समिट ह्यूमन सेंट्रिक इनक्लूसिव डेवलपमेंट( मानव-केंद्रित और समावेशी विकास) के लिए नया रास्ता बनाएगी। भारत डेवलपमेंट के लिए ह्यूमन सेंट्रिक तरीके पर भी बहुत जोर देता है। वंचितों, आखिरी पायदान के लोगों की सेवा करने के गांधीजी के मिशन का पालन करना महत्वपूर्ण है।

मोदी ने G20 से जुड़ी अपनी गतिविधियों की जानकारी आज X पर दी। उन्होंने बताया कि भारत को 9-10 सितंबर को नई दिल्ली के प्रतिष्ठित भारत मंडपम में 18वें G20 समिट की मेजबानी करते हुए खुशी हो रही है।

यह भारत में होने वाला पहला G20 शिखर सम्मेलन है। वे अगले दो दिनों में विश्व नेताओं के साथ सार्थक चर्चा की आशा करते हैं।

G20 प्रेसीडेंसी थीम हमारी संस्कृति के अनुरूप
मोदी ने कहा कि भारत की G20 प्रेसीडेंसी थीम हमारे सांस्कृतिक लोकाचार में बसी ​​​​​​​, ‘वसुधैव कुटुंबकम- एक पृथ्वी, एक परिवार, एक भविष्य’ हमारे विश्व दृष्टिकोण के साथ गहराई से मेल खाती है कि पूरी दुनिया एक परिवार है। भारत की G20 अध्यक्षता इनक्लूसिव, महत्वाकांक्षी, निर्णायक और काम में भरोसा करने की रही है। हमने ग्लोबल साउथ की विकास को लेकर चिंताओं को सक्रिय रूप से आवाज दी।

उन्होंने कहा कि मित्रता और सहयोग के बंधन को और गहरा करने के लिए कई नेताओं और प्रतिनिधिमंडल के प्रमुखों के साथ वे बाइलेटरल बैठकें करेंगे। उन्हें विश्वास है कि हमारे मेहमान भारतीय मेहमाननवाजी की गर्मजोशी का आनंद लेंगे।

राष्ट्रपतिजी 9 सितंबर को डिनर देंगी। 10 तारीख को नेता राजघाट पर गांधीजी को श्रद्धांजलि देंगे। समापन समारोह में, उसी दिन, G20 नेता एक स्वस्थ ‘एक पृथ्वी’ के लिए ‘एक परिवार’ की तरह मिल कर एक स्थायी और न्यायसंगत ‘एक भविष्य’ के लिए अपने सामूहिक दृष्टिकोण को साझा करेंगे।

सेशन की अध्यक्षता करेंगे मोदी
​​​​​​​
उन्होंने बताया कि G20 शिखर सम्मेलन के दौरान, वे ‘एक पृथ्वी’, ‘एक परिवार’ और ‘एक भविष्य’ पर सत्र की अध्यक्षता करेंगे। इसमें विश्व समुदाय के लिए प्रमुख चिंता के कई मुद्दों को शामिल किया जाएगा। इनमें मजबूत, टिकाऊ, इनक्लूसिव और संतुलित विकास को आगे बढ़ाना शामिल है।

हम जेंडर इक्वेलिटी, ​​​महिला सशक्तिकरण को आगे बढ़ाने और दुनिया में शांति सुनिश्चित करने के लिए भी सामूहिक रूप से काम करेंगे।