टिकैत का ऐलान- सरकार के खिलाफ लगवाएंगे प्रदेशभर में होर्डिंग:लोकसभा चुनाव को देखकर तो एक्टिव नहीं हो गए? जवाब-ऐसा ही समझ लीजिए

यूपी की राजनीति की धूरी में किसान केंद्र में आते हैं। लोकसभा चुनाव 2024 नजदीक हैं, तो एक बार फिर किसानों के आंदोलन तेजी पकड़ने लगे हैं। आगाज UP से है, लखनऊ में किसानों की महापंचायत बुलाई गई। किसान नेता राकेश टिकैत की अगुवाई में 1 लाख से ज्यादा किसान मौजूद रहे।

किसानों की रणनीति पर राकेश टिकैत से बात की। उन्होंने कहा- सरकार जिस तरह से गलत कामों को सही दिखाने के लिए होर्डिंग लगाकर अपना प्रचार-प्रसार कर रही है। हम भी अब पूरे प्रदेश में सरकार की पोल-खोल होर्डिंग लगाएंगे। ताकि, लोगों तक हकीकत पहुंच सके।

सवाल – किसानों ने महापंचायत लखनऊ में की। किसानों में क्या नाराजगी है?
जवाब – देखिए, बड़ी संख्या में किसान यहां आए हैं। किसान सरकार ने बेहद खफा हैं। किसानों को लगने लगा है कि उन्हें छला जा रहा है।

सवाल -आपका आरोप है कि बिजली माफी में कुछ नहीं हुआ। अब आगे क्या करेंगे ?
जवाब – हम भी अब सरकार की तरह पूरे प्रदेश में बड़ी-बड़ी होर्डिंग लगाएंगे। इसके जरिए सरकार को उनका घोषणा पत्र याद दिलाएंगे। सरकार की होर्डिंग का जवाब हम उससे ही देंगे।

सवाल- सरकार आपकी बात सुनेगी?
जवाब – बात तो नहीं सुनेगी…। सरकार हमारी बात नहीं सुनती। वह किसानों से बात करने में घबराने वाले लोग हैं।

सवाल – सरकार आपके मुद्दों पर प्रतिक्रिया नहीं देती, तो आपकी रणनीति क्या होगी?
जवाब – हम आंदोलन करेंगे। प्रदेश का किसान नाराज है। आज की रैली से यह साबित हो गया है।

सवाल – आगे लोकसभा चुनाव है। इसे देखकर आप एक्टिव तो नहीं हो गए?
जवाब – मुस्कराते हुए … ऐसा ही मान लो। (इसके बाद टिकैत चुप हो गए)

सवाल – क्या आप संयुक्त किसान मोर्चा से अलग हो गए हैं?
जवाब – ऐसा कुछ नहीं है। उनके साथ जो साझा कार्यक्रम तय है, वह चलेगा। इसके अलावा संगठन के अपने तय कार्यक्रम भी चलते रहेंगे।

सवाल – 2022 में बीजेपी के खिलाफ प्रचार किया। 2024 में भी यही होगा क्या?
जवाब – (सवाल को टालने के स्टाइल में) क्या पता हमें अपने किसानों के मुद्दों से ही फुरसत नहीं मिले। अभी हमारा ध्यान किसान आंदोलन और उनकी मांगों पर है।

सवाल – क्या विपक्ष आपसे मदद मांगेगा, तो आप करेंगे ?
जवाब – हमसे कोई भी मदद नहीं मांग रहा है। कई राज्य में विपक्षी दलों की भी सरकार हैं। वहां भी किसानों की मांगों को लेकर आंदोलन हो रहा है। हमने कहा कि जहां आपकी सरकार वहां आप किसानों के लिए काम करो।