पाकिस्तान पर भारत का पलड़ा भारी बना रहे 5 फैक्टर्स:हमारे टॉप ऑर्डर की फॉर्म बेहतर, मिडिल ओवर्स में पाकिस्तानी बॉलर्स फिसड्डी

भारत और पाकिस्तान की टीमें वनडे वर्ल्ड कप में 14 अक्टूबर को आमने-सामने होंगी। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में दोपहर 2 बजे से यह मुकाबला खेला जाएगा। वर्ल्ड कप में अब तक दोनों टीमों के बीच 7 मैच खेले गए, सभी में भारत ने पाकिस्तान को हराया। इस बार भी टीम इंडिया जीत की मजबूत दावेदार है।

भारत की इस दावेदारी के पीछे सिर्फ इतिहास नहीं है। वर्तमान समय में भी 5 फैक्टर्स ऐसे हैं जो इस मैच में भारत का पलड़ा भारी बना रहे हैं। इन सभी फैक्टर्स को एक-एक कर जानते हैं।

फैक्टर-1: भारत का टॉप ऑर्डर फॉर्म में, पाकिस्तान को टीम बदलनी पड़ी
साल 2023 में एशिया कप से पहले तक पाकिस्तान के टॉप-3 बैटर बेहतरीन फॉर्म में थे, लेकिन सितंबर में एशिया कप शुरू होने के बाद से ही उनके ऊपरी तीन बैटर्स का फॉर्म चला गया। उनके कप्तान बाबर आजम नेपाल के खिलाफ सेंचुरी लगाने के बाद एक भी फिफ्टी नहीं लगा सके। वर्ल्ड कप के शुरुआती 2 मैचों में तो बाबर बुरी तरह फेल रहे और 10 और 5 रन के स्कोर ही बना सके।

नीदरलैंड के खिलाफ 38 रन पर ही पाकिस्तान ने अपने टॉप-3 बैटर्स के विकेट गंवा दिए, वहीं श्रीलंका के खिलाफ टीम को ओपनिंग कॉम्बिनेशन ही बदलना पड़ गया। इसमें भी बाबर और इमाम-उल हक 37 रन के अंदर ही पवेलियन लौट गए।

दूसरी ओर टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर में शुभमन गिल ने डेंगू से रिकवरी के बाद नेट प्रैक्टिस शुरू कर दी है। कप्तान रोहित शर्मा ने अफगानिस्तान के खिलाफ शतक लगाया और विराट कोहली लगातार 2 वर्ल्ड कप मैचों में फिफ्टी लगा चुके हैं। रोहित और शुभमन साल 2023 में भारत के टॉप रन स्कोरर हैं, उन्होंने बाबर से भी ज्यादा रन बनाए हैं। वहीं विराट अब बाबर से महज 8 रन पीछे हैं।

फैक्टर-2: हमारे तेज गेंदबाज पावरप्ले में ले रहे ज्यादा विकेट
मोहम्मद सिराज भले ही इस वर्ल्ड कप के दो मैचों में पावरप्ले में कुछ खास नहीं कर सके, लेकिन पिछले चार सालों से वे वनडे मैच से शुरुआती 10 ओवर्स के बेस्ट बॉलर साबित हुए हैं। 2019 के बाद से उन्होंने शुरुआती 10 ओवरों में 32 विकेट लिए हैं, जो भारत-पाकिस्तान के प्लेयर्स में सबसे ज्यादा हैं। इस दौरान मोहम्मद शमी ने 19 और जसप्रीत बुमराह ने 18 विकेट लिए हैं। पाकिस्तान से शाहीन अफरीदी के आंकड़े ही प्रभावशाली हैं। उन्होंने 2019 के बाद शुरुआती 10 ओवरों में 29 विकेट लिए हैं। पाकिस्तान के लिए नंबर-2 पर हारिस रऊफ हैं। उन्होंने 13 विकेट लिए हैं।

शाहीन इस वर्ल्ड कप के पावरप्ले में फीके रहे, जबकि भारत से जसप्रीत बुमराह ने दोनों मैचों में विकेट लिए हैं। पाकिस्तान के लिए नसीम शाह का नहीं खेलना भी बड़ा झटका है है, क्योंकि वह पावरप्ले में शाहीन का बेहतरीन साथ देते हैं और विपक्षी टीम पर दबाव बनाते हैं। अब उनके टीम में नहीं होने से टीम पावरप्ले में कमजोर नजर आ रही है। हसन अली ने जरूर अच्छा किया है, लेकिन उनका भारत के खिलाफ रिकॉर्ड कुछ खास नहीं है। अब तक खेले 5 वनडे में वह 5 ही विकेट ले सके हैं। इस दौरान उन्होंने 6.70 की इकोनॉमी से रन भी लुटाए।

फैक्टर-3: मिडिल ओवर्स में भारत ले रहा सबसे ज्यादा विकेट
वनडे क्रिकेट का सबसे अहम फेज मिडिल ओवर्स का होता है, 11 से 40 ओवरों के बीच टीम की परफॉर्मेंस का असर पूरे मैच पर नजर आता है। भारत ने इसी फेज में बॉलिंग से बेहतरीन परफॉर्म किया है। पिछले 2 महीनों में टीम इंडिया के बॉलर्स ने मिडिल ओवर्स में सबसे ज्यादा 48 विकेट निकाले हैं। टीम का इकोनॉमी रेट भी महज 4.96 का रहा, जो बाकी टीमों में सबसे कम है। पाकिस्तान के बॉलर्स इस दौरान 7 मैचों में 32 विकेट ही ले सके, इतना ही नहीं उन्होंने 5.85 के महंगे इकोनॉमी रेट से रन भी लुटाए।

2019 के बाद से मिडिल ओवर्स में कुलदीप यादव ने 77, शार्दूल ठाकुर ने 43 और रवींद्र जडेजा ने 37 विकेट लिए हैं। मिडिल ओवर्स में पाकिस्तान से सिर्फ शादाब खान 37 विकेट ले सके, जो भारत-पाकिस्तान के मौजूद स्क्वॉड में शामिल प्लेयर्स में चौथे नंबर पर हैं। भारत से मोहम्मद शमी ने भी मिडिल ओवर्स में 31 विकेट निकाले हैं। अहमदाबाद में अगर उन्हें शामिल किया गया तो वह पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ा सकते हैं। IPL में वह गुजरात टाइटंस की ओर से इसी मैदान पर खेलते हैं और पिछले 2 सीजन के 33 मैचों में 48 विकेट झटके हैं।

फैक्टर-4: हमारे स्पिनर्स पाकिस्तान के फिरकी गेंदबाजों से बेहतर
एशियन पिचों पर जिस टीम के स्पिनर्स दमदार रहते हैं, उन्हें ज्यादा सफलता मिलती है। ऐसा ही कुछ एशिया कप और भारत में हो रहे वर्ल्ड कप में देखने को मिला। टीम इंडिया रविचंद्रन अश्विन, कुलदीप यादव और रवींद्र जडेजा जैसे अलग-अलग वैरायटी वाले 3 टॉप क्लास स्पिनर्स के साथ खेल रही है। चेन्नई की पिच पर इन तीनों स्पिनर्स ने 6 विकेट लेकर ऑस्ट्रेलिया को बैकफुट पर धकेल दिया था।

इस साल टीम के स्पिनर्स में कुलदीप यादव ने सबसे ज्यादा 36 विकेट लिए हैं। उनसे ज्यादा विकेट वर्ल्ड कप खेल रही टीम का कोई और गेंदबाज नहीं ले सका। भारत और पाकिस्तान के प्लेयर्स में रवींद्र जडेजा दूसरे नंबर पर हैं, उन्होंने साल 2023 में 18 विकेट लिए हैं। इस दौरान पाकिस्तान के शादाब खान 15 और मोहम्मद नवाज 11 ही विकेट ले सके। अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम की पिच पर अगर थोड़ा भी टर्न देखने मिला तो इंडियन स्पिनर्स पाकिस्तानी बैटर्स पर भारी पड़ेंगे।