Sridevi Death Anniversary: जानें आखिर क्या हुआ था 24 फरवरी की उस रात, पति बोनी कपूर ने बताई थी हर एक बात

हिंदी सिनेमा की पहली फीमेल सुपरस्टार कही जाने वाली खूबसूरत एक्ट्रेस श्रीदेवी आज हमारे बीच नहीं है। श्रीदेवी का निधन 24 फरवरी, 2018 को हुआ था। उनकी मौत दुबई के एक होटल के कमरे में बाथटब में डूबने की वजह से हुई थी। एक्ट्रेस की अचानक हुई मौत ने न सिर्फ उनकी फैमिली बल्कि उनके फैंस को भी हिला कर रख दिया था। आज भी उनके फैंस उन्हें उसी शिद्दत से चाहते हैं जैसे कि पहले चाहते थे। लेकिन आज भी उनके फैंस जानना चाहते हैं कि निधन की रात आखिर क्या-क्या हुआ था। उस पूरी रात के बारे में श्रीदेवी के पति बोनी कपूर ने उनके खास दोस्त और ट्रेड एनालिस्ट कोमल नाहटा से अपने दिल की बात कही थी। वहीं बोनी कपूर से हुई उस रात के बारे में कोमल नाहटा ने अपने ब्लॉग पर प्रकाशित किया था।

भतीजे की शादी में गईं थीं दुबई 

एक बार फिर आपको याद दिला दें कि श्रीदेवी अपने पति बोनी और छोटी बेटी खुशी के साथ दुबई में एक पारिवारिक शादी समारोह में शामिल होने पहुंची थीं। ये शादी 20 फरवरी को संपन्न हो गई थी। वहीं बोनी को एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए लखनऊ जाना था,  जिसके लिए वह भारत लौट आए थे। लेकिन श्रीदेवी वहीं रुकीं थीं क्योंकि उन्हें अपनी बड़ी बेटी जाह्नवी के लिए शॉपिंग करनी थी। अपने ब्लॉग में कोमल नाहटा ने लिखा था, ‘जाह्नवी की शॉपिंग लिस्ट श्रीदेवी के फोन में थी, लेकिन वह 21 फरवरी को शॉपिंग करने नहीं जा सकीं क्योंकि उनका फोन छूटने की वजह से वह शॉपिंग नहीं कर सकीं। दिन का ज़्यादातर समय उन्होंने अपने होटल रूम में रिलैक्स करते हुए बिताया।’

मौत के दिन सुबह हुई थी श्रीदेवी से बात 

बोनी ने कोमल नाहटा को बताया, ‘श्रीदेवी की बात बोनी से मौत वाले दिन यानी 24 फरवरी की सुबह हुई थी। फोन पर श्रीदेवी ने बोनी से कहा कि वह उन्हें मिस कर रही हैं।’ लेकिन बोनी ने श्रीदेवी को सरप्राइज देने की वजह से ये नहीं बताया कि वह उसी शाम दुबई पहुंच रहे हैं। वहीं जाह्नवी भी यही चाहती थी कि बोनी दुबई जाएं क्योंकि उसे डर था कि उसकी मां, जिन्हें अकेले रहने की आदत नहीं थी, अपना पासपोर्ट या कोई ज़रूरी कागज मिस न कर दें।’

बोनी ने दिया सरप्राइज

कोमल नाहटा ने अपने ब्लॉग में लिखा है, ‘बोनी ने अपनी पत्नी श्रीदेवी को दुबई के जुमेराह एमिरेट्स टावर्स होटल पहुंचकर सरप्राइज़ दिया था। बोनी ने सरप्राइज देने के लिए होटल की से डुप्लिकेट चाभी लेकर श्रीदेवी का कमरा खोला।’ नाहटा ने बोनी के हवाले से लिखा था, ‘दोनों टीनएज प्रेमियों की तरह गले लगे।’ इसके बाद श्रीदेवी ने उनसे कहा कि मुझे कहीं न कहीं ये लग रहा था कि आप हमसे मिलने दुबई आ सकते हैं।’ इसके बाद दोनों ने एक दूसरे को गले लगाया और किस किया। आधे घंटे तक दोनों ने एक दूसरे से बात की और फिर बोनी फ्रेश होने चले गए। इसके बाद बोनी ने बाथरूम से आकर श्रीदेवी से रोमांटिक डिनर पर चलने को कहा। इसके बाद बोनी ने श्रीदेवी से अपनी अगले दिन की शॉपिंग को कैंसिल करने की रिक्वेस्ट की। वापसी की टिकट फिर बदली जानी थीं क्योंकि दोनों ने अब 25 की रात को भारत लौटना तय किया था। शॉपिंग के लिए 25 को दिन में काफी समय मिल सकता था। उस वक्त तक भी श्रीदेवी अब भी रिलैक्स करने के मूड में थीं। रोमांटिक डिनर के लिए तैयार होने के लिए वह नहाने चली गईं।’

​श्रीदेवी नहाने और रेडी होने चली गईं 

मौत वाले दिन के बारे में बोनी ने नाहटा को बताते हैं, ‘जिस वक्त श्रीदेवी  मास्टर बाथरूम में नहाने और तैयार होने चली गईं थीं मैं लिविंग रूम में चला गया था।’ उस दिन दक्षिण अफ्रीका और भारत के क्रिकेट मैच चल रहा था और बोनी लिविंग रूम में मैच का अपडेट लेने के लिए टीवी चैनल बदलने लगे थे।’ कोमल के ब्लॉग के मुताबिक बोनी ने 15-20 मिनट तक मैच देखा, लेकिन फिर उन्हें यह फिक़्र होने लगी कि शनिवार को आमतौर पर सभी रेस्टोरेंट्स में भीड़ होने लगती है और उस वक्त तक करीब आठ बज गए थे। ऐसे में बोनी ने श्रीदेवी को लिविंग रूम से ही आवाजें दीं, उन्होंने दो बार श्रीदेवी को बुलाया, फिर उन्होंने टीवी की आवाज़ धीमी कर ली, तब भी कोई जवाब नहीं आया, इसके बाद वह बेडरूम में गए, बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाया और फिर उन्हें आवाज़ दी। अंदर से पानी का टैप खुला होने की आवाज़ सुनकर बोनी ने फिर ‘जान, जान’ कहकर आवाज़ दी।’

बाथटब में डूबी थीं श्रीदेवी

नाहटा ने आगे लिखा है, ‘कई बार अवाज देने पर भी जब अंदर से आवाज नहीं आई तो बानी ने घबरा गए और उन्होंने धक्का देकर दरवाजा खोला। दरवाजा अंदर से बंद नहीं था, बोनी थोड़े घबराए हुए थे लेकिन जो दृश्य उनकी आंखों के आगे आने वाला था, उसके लिए वह तब भी तैयार नहीं थे। जो कुछ हुआ, उसके लिए कोई तैयार नहीं था। वह पहले डूबीं, फिर बेहोश हुईं या पहले बेहोश हुईं, फिर डूबीं, शायद किसी को पता नहीं चलेगा। बोनी ने ये भी बताया कि बाथटब से थोड़ा सा भी पानी नीचे नहीं गिरा था। यानी श्रीदेवी को थोड़ा सा भी संघर्ष करने के लिए वक्त नहीं मिला होगा वह गिरते ही बेहोश हो गईं होंगी। क्योंकि अगर उन्होंने डूबते हुए अपने हाथ-पांव चलाए होते तो थोड़ा पानी टब से बाहर ज़रूर होता। लेकिन फ्लोर पर बिल्कुल पानी नहीं था।’