Dr. MGR चिकित्सा विश्वविद्यालय में मोदी का संबोधन, बोले- हमने छह वर्षों 15 AIIMS को दी मंजूरी, 2014 तक थे सिर्फ 6

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तमिलनाडु के डॉ. एम.जी.आर. चिकित्सा विश्वविद्यालय के 33वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया। प्रधान मंत्री कार्यालय के अनुसार, ‘दीक्षांत समारोह में कुल 17591 कैंडिडेट्स को डिग्री और डिप्लोमा से सम्मानित किया जाएगा।’ तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित भी इस अवसर पर उपस्थित रहें।

Updates:

-पीएम मोदी ने कहा कि हमारे सरकार ने तमिलनाडु में 11 नए मेडिकल कॉलेजों की स्थापना की अनुमति दी है। ये कॉलेज उन जिलों में स्थापित किए जाएंगे, जहां वर्तमान में मेडिकल कॉलेज नहीं है। इनमें से प्रत्येक कॉलेज के लिए, भारत सरकार 2,000 करोड़ रुपये देगी।

-पीएम बोले- हमारे देश में डॉक्टर सबसे सम्मानित पेशेवरों में से हैं। आज, महामारी के बाद, यह सम्मान और भी अधिक बढ़ गया है। यह सम्मान इसलिए है क्योंकि लोग आपके पेशे की गंभीरता को जानते हैं जहां कई बार, यह सचमुच किसी के लिए जीवन और मृत्यु का सवाल है। हालांकि, गंभीर होना और गंभीर दिखना दो अलग-अलग चीजें हैं। मेरा आप सभी से निवेदन है कि आप अभी भी अपनी सूझबूझ बनाए रखें। यह आपके रोगियों को खुश करने और उनका मनोबल ऊंचा रखने में भी आपकी मदद करेगा।

-मोदी बोले- 2014 में, देश में 6 AIIMS थे। पिछले 6 वर्षों में, हमने देश भर में 15 और एम्स स्वीकृत किए हैं।

-मोदी बोले- पिछले 6 वर्षों के दौरान, एमबीबीएस सीटों में 30 हजार से अधिक की वृद्धि हुई, जो 2014 से 50% से अधिक बढ़ी। पीजी सीटों की संख्या में 24 हजार की वृद्धि हुई जो 2014 से लगभग 80% बढ़ी।

-पीएम ने कहा- आप ऐसे समय में स्नातक कर रहे हैं जब भारतीय चिकित्सा पेशेवरों, वैज्ञानिकों और फार्मा पेशेवरों के लिए प्रशंसा और उनका सम्मान किया जा रहा है। कुल मिलाकर, भारतीय स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र को नई आंखों, नई सम्मान और नई विश्वसनीयता के साथ देखा जा रहा है।

-पीएम मोदी ने कहा, ‘आप सभी की सफलता और इस संस्थान ने महान एमजीआर को बहुत खुश किया होगा।उनका शासन गरीबों के प्रति दया से भरा था। महिलाओं के स्वास्थ्य, शिक्षा और सशक्तिकरण के विषय उन्हें प्रिय थे।’

-तमिलनाडु के डॉ. एम.जी.आर. चिकित्सा विश्वविद्यालय के 33वें दीक्षांत समारोह में प्रधानमंत्री ने कहा, ‘मुझे बताया गया है कि आज 21,000 से ज्यादा उम्मीदवारों को डिग्री और डिप्लोमा मिल रहा है, इनमें से 70% महिलाएं हैं। हर क्षेत्र में महिलाओं को नेतृत्व करते देखना गर्व और खुशी की बात है।’

विश्वविद्यालय का नाम तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ एम.जी. रामचंद्रन पर रखा गया। इसमें कुल 686 संबद्ध संस्थान हैं, जिसमें चिकित्सा, दंत चिकित्सा, फार्मेसी, नर्सिंग, आयुष, फिजियोथेरेपी, व्यावसायिक चिकित्सा और संबद्ध स्वास्थ्य विज्ञान के विषयों को समाहित किया गया है।

ये संस्थान तमिलनाडु राज्य में काफी महत्व रखते हैं, जिनमें 41 मेडिकल कॉलेज, 19 डेंटल कॉलेज, 48 आयुष कॉलेज, 199 नर्सिंग कॉलेज, 81 फ़ार्मेसी कॉलेज और बाकी स्पेशलिस्ट पोस्ट-डॉक्टोरल मेडिकल और / या अलाइड हेल्थ संस्थान शामिल हैं।