सऊदी के तेल उत्‍पादन पर यमन की हौथी सेना ने ड्रोन, मिसाइलों से किया हमला, तेल की कीमतें बढ़ीं

यमन की हौथी सेना ने रविवार को सऊदी अरब के तेल उद्योग के केंद्र में ड्रोन और मिसाइलें दागीं, जिसमें रास तनुरा में एक सऊदी अरामको भी शामिल है, जो पेट्रोलियम निर्यात के लिए महत्वपूर्ण है। रियाद ने इसे वैश्विक ऊर्जा सुरक्षा पर एक असफल हमला करार दिया। हमलों के सऊदी अरब को आधे से अधिक तेल उत्‍पादन को बंद करना पड़ा, जिससे दुनिया भर में तेल की कीमतें बढ़ गई हैं।

सऊदी ऊर्जा मंत्रालय ने कहा कि हमलों से कोई हताहत या किसी संपत्ति का नुकसान नहीं हुआ है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने रास तनुरा में एक तेल भंडारण यार्ड, एक रिफाइनरी के स्थल और दुनिया की सबसे बड़ी समुद्र तटीय तेल लोडिंग सुविधा पर अपने लक्ष्य को मारने से पहले समुद्र से आने वाले एक ड्रोन ने रोक दिया।

मंत्रालयों ने कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी राज्य नियंत्रित सऊदी अरामको द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे धरहर में एक आवासीय परिसर के पास बैलिस्टिक मिसाइल गिरी। हमलों ने जनवरी 2020 के बाद से ब्रेंट क्रूड की कीमतें 70 डॉलर प्रति बैरल से अधिक कर दीं हैं, जबकि अमेरिकी कच्चे तेल के भावी  सौदे ने अक्टूबर 2018 की उंचाइयों को छू लिया है।

यह साइटें ईरान और इराक और बहरीन के पास खाड़ी तट पर स्थित हैं, जो अमेरिकी नौसेना के पांचवें बेड़े का घर है। यमन अदन की खाड़ी पर दक्षिण-पश्चिम में हजारों किलोमीटर दूर है। हमलों की घोषणा करते हुए हाउथिस, जो छह साल से सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन से जूझ रहे थे ने यह भी कहा कि उन्होंने सऊदी के शहर दम्मम, असीर और जजान में सैन्य ठिकानों पर हमला किया।

राज्य मीडिया पर मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि तोड़फोड़ की ऐसी हरकतें न केवल सऊदी अरब के राज्य को टारगेट करती हैं, बल्कि विश्व को ऊर्जा की सुरक्षा और स्थिरता की आपूर्ति भी करती हैं। सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन ने पहले कहा था कि उसने नागरिक ठिकानों को निशाना बनाने वाले 12 हमलों को सशस्त्र ड्रोनों को एक स्थान को निर्दिष्ट किए बिना रोक दिया और साथ ही दो बैलिस्टिक मिसाइलों ने जाजन पर बमबारी की है।

सऊदी अरब के पूर्वी प्रांत अरामको के अधिकांश उत्पादन और निर्यात सुविधाओं के लिए जाने जाते हैं। रविवार को तेल प्रतिष्ठानों से कुछ किमी दूरी पर मिसाइल और ड्रोन हमले  से 2019 में दुनिया के शीर्ष तेल निर्यातक सऊदी अरब हिल गया है। रियाद ने ईरान पर आरोप लगाए हैं, जबकि ईरान ने आरोपों को खारिज किया है। यह हमला, जो हौथियों द्वारा दावा किया गया था, लेकिन रियाद ने कहा कि यह हमला यमन से नहीं हुआ था। हमले के कारण सऊदी अरब को अपने कच्चे माल के आधे से अधिक उत्‍पादन को अस्थायी रूप से बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा, जिससे तेल की कीमतें बढ़ गईं हैं।

हौथी सैन्य प्रवक्ता याह्या सराया ने रविवार को कहा कि समूह ने एक बड़े ऑपरेशन में सऊदी अरब के दिल में 14 ड्रोन और आठ बैलिस्टिक मिसाइल दागे हैं। हाउथिस ने हाल ही में सऊदी अरब पर सीमा पार हमलों को ऐसे समय में उठाया था, जब संयुक्त राज्य अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र युद्ध को समाप्त करने के लिए रुकी हुई राजनीतिक वार्ताओं को पुनर्जीवित करने के लिए संघर्ष विराम पर जोर दे रहे हैं।