दिल्ली पुलिस से बातचीत में दुल्हन के मुंह से निकल गई सच्चाई, अब 3 साल तक नहीं हो सकती शादी

दिल्ली महिला आयोग ने बृहस्पतिवार को जहांगीरपुरी इलाके से एक नाबालिग का विवाह रुकवाकर उसे बाल विवाह से बचाया। आयोग के मुताबिक उन्हें किसी ने आयोग की हेल्पलाइन पर बाल विवाह की जानकारी दी थी। इसके बाद महिला आयोग की टीम ने दो दिन तक इलाके में चुपचाप घूमकर गतिविधियों का जायजा लिया। इसके बाद इस बात की पुष्टि हुई कि बृहस्पतिवार को उसी इलाके में 15 साल की एक लड़की का निकाह होने जा रहा है। निकाह समारोह शुरू होते ही आयोग की टीम स्थानीय पुलिस के साथ लड़की के घर पहुंची। आयोग ने बताया कि लड़की ने बातचीत के दौरान इस बात को कबूल किया कि उसकी उम्र 15 साल है। इसके बाद आयोग की टीम ने त्वरित कार्रवाई करते हुए नाबालिग लड़की को वहां से बाहर निकाला और उसकी काउंसलिंग कर उसे कानून के बारे में बताया।

वहीं, दिल्ली पुलिस मौके पर मौजूद लोगों को पूछताछ के लिए थाने लेकर गई। दिल्ली महिला आयोग के प्रवक्ता राहुल ताहिल्यानी (Rahul Tahilyani, spokesperson of Delhi Women’s Commission) ने बताया कि अब नाबालिग लड़की के बयान दर्ज किए जाएंगे। उसके बाद उसे बाल कल्याण समिति के सामने आगे की कार्रवाई के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। राहुल ने बताया कि लड़की बहुत गरीब परिवार से है और दिल्ली महिला आयोग अब लड़की के पुनर्वास पर भी काम करेगा।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल (Delhi Women Commission chairperson Swati Maliwal) ने कहा कि ये बहुत दुख की स्थिति है कि देश से बाल विवाह खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। उन्होंने कहा कि बच्चों से उनका बचपन छीनने वालों को सख्त सजा होनी जरूरी है। स्वाति मालीवाल ने कहा कि बच्चों से उनका बचपन छीनने वालों को सख्त सजा होनी जरूरी है। इस मामले में तुरन्त एक्शन में आते हुए हमारी टीम और मै तुरन्त मौके पर पहुंचे और समय रहते बच्ची का विवाह रुकवाने में कामयाब हुए।