KMP एक्सप्रेस-वे : कुंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेस-वे बंद, टोल प्लाजा पर बैठे आंदोलनकारी; सोनीपत में दिखा असर

तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों का वापस लेने की मांग को लेकर अड़े हजारों किसान का 24 घंटे का जाम शुरू हो गया है। इसके तहत कुंडली में केएमपी के टोल प्लाजा पर जाम लगाकर कृषि कानून विरोधी आंदोलनकारी बैठ गए हैं। किसानों की ओर से कुंडली-मानेसर-पलवर एक्सप्रेस-वे को 24 घंटे के लिए बंद किया गया है। वहीं, किसान आंदोलन के दौरान केएमपी एक्सप्रेस वे को जाम करने का असर गुरुग्राम जिले की सीमा में नहीं दिख रहा है। हालांकि, झज्जर और कुंडली की तरफ से आने वाली सड़क पर कभी कभी वाहन आ रहे हैं। गुरुग्राम से रोजाना की तरह वाहन जा रहे हैं।

सोनीपत में कृषि कानून के विरोध में केजीपी-केएमपी के जीरो प्वाइंट व केएमपी टोल पर आंदोलनकारी डटे हुए हैं। सुबह 8 बजे से ही दोनों और से एक्सप्रेस वे बंद है। आंदोलनकारी नारेबाजी करते हुए झंडे लेकर एक्सप्रेस वे पर बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। बंद के चलते मुरथल व गनौर में भारी वाहनों को रोकने के चक्कर पर लंबा जाम लगा है। सैकड़ों वाहन जाम में फंसे हैं और फिर आसपास के गांवों के मार्गों से निकल रहे हैं।

उधर, संयुक्त किसान मोर्चा से मिली जानकारी के मुताबिक शनिवार सुबह 8 बजे से शुरू हुआ जाम अगले दिन रविवार 11 अप्रैल सुबह 8 बजे तक चलेगा। इस दौरान कुंडली मानेसर और पलवल एक्सप्रेस-वे जाम रहेगा।

वहीं, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत की अध्यक्षता में गाजीपुर बॉर्डर पर शुक्रवार को हुई बैठक में इस पर विचार करके निर्णय लिया गया कि इस क्रम में शनिवार को डासना पर जाम किया जाएगा। 24 घंटे तक चलने वाले इस लंबे जाम के दौरान किसी को कोई परेशानी नहीं हो, इसके लिए संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से खास इंतजाम भी किए गए हैं। इसके तहत 24 घंटे के दौरान जाम के दौरान कई तरह की छूट दी गई है।

वहीं, हरियाणा पुलिस ने 10 और 11 अप्रैल के लिए ट्रैफिक एडवाइजरी जारी कर केएमपी एक्सप्रेस-वे का इस्तेमाल न करने की सलाह दी है। इस दिन संयुक्त किसान मोर्चा ने 24 घंटे के केएमपी जाम का आह्वान किया है। यह भी कहा गया है कि शनिवार और रविवार को अगर आप सोनीपत, झज्जर, पानीपत, रोहतक, पलवल, फरीदाबाद और गुरुग्राम के लिए जा रहे हैं तो संभलकर निकलें। क्‍योंकि किसानों के जाम के मद्देनजर हरियाणा पुलिस ने ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की है।

इन्हें मिली छूट

  • अगर महिलाओं की गाड़ी फंस जाती है तो उन्हें नीचे उतरने की छूट
  • शव वाहन नहीं रोके जाएंगे
  • एंबुलेंस को रास्ता दिया जाएगा, इसमें किसान कार्यकर्ता मदद भी करेंगे।
  • शादी वाहनों को कतई नहीं रोका जाएगा।
  • दूध और सब्जी समेत सभी आवश्यक वस्तु वाहनों को आवागमन की छूट है।

उधर, दोनों जगहों पर जाम के बाबत भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait, National Spokesperson of Bharatiya Kisan Union) ने भी जनता से अपील करते हुए उन्हें सलाह भी दी है कि शनिवार को वाहन चालक केएमपी का सफर के लिए इस्तेमाल नहीं करें। हमारा आंदोलन जनता का आंदोलन है और हम आपको परेशान नहीं करना चाहते हैं। ऐसे में अन्नदाता के समर्थन में जनता हमारा सहयोग करे।