Coronavirus वैक्सीन और दवाइयों की कमी को देख लाचार हुए गुरमीत चौधरी, लोगों से कर रहे हैं अब ये अपील

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने पूरे देश के लोगों को हिलाकर रख दिया है। आलम यह है कि देश के कई अस्पतालों में दवाइयों और वैक्सीन की कमी होने लगी है। जिसके चलते स्थिति और बुरी होती जा रही है। इन सबके बीच टीवी और बॉलीवुड अभिनेता गुरमीत चौधरी ने कोरोना वैक्सीन की कमी और दवाइयों को लेकर अपना गुस्सा व्यक्त किया है। साथ ही वह खुद को लाचार समझ रहे हैं।

दरअसल गुरमीत चौधरी से कोरोना महामारी की मार झेल रहे बहुत से लोग और फैंस मदद की गुहार लगा रहे हैं। ऐसे में लोगों की मदद न कर पाने पर वह खुद को बहुत लाचार समझ रहे हैं। गुरमीत चौधरी ने लोगों से अपने संपर्कों का इस्तेमाल करने और संभव हो तो उन इंजेक्शनों और दवाइयों की व्यवस्था करने का अनुरोध किया है। अभिनेता ने सोशल मीडिया पर एक नंबर भी छोड़ा है जिस पर लोगों से संपर्क करने को कहा है।

यह जानकारी गुरमीत चौधरी ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक पोस्ट साझा कर दी है। उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा, ‘यह 48 घंटे के बाद से है जब से मैं सभी लोगों की मदद करने के लिए एक रोल पर हूं, जो जरूरतमंद हैं। हमारे आसपास रेमडेसिविर और टोकिलीजुमाब जैसे इंजेक्शन न होने पर जो कॉल आ रहे हैं, वह चौंकाने वाला, दुखद और निराशाजनक है। लोग अपने परिवार के सदस्यों को बचाने के लिए रो रहे हैं, 1 खुराक के लिए भी मदद मांग रहे हैं, इसका मतलब अपने प्रियजनों को बचाने के लिए उनके लिए बहुत होगा

गुरमीत चौधरी ने पोस्ट में आगे लिखा, ‘हर एक से और सभी से अनुरोध है कि कृपया आगे आएं और अपने संपर्क के जरिए लोगों की मदद करें।’ सोशल मीडिया पर गुरमीत चौधरी का यह पोस्ट तेजी से वायरल हो रहा है। अभिनेता के कई फैंस और तमाम सोशल मीडिया यूजर्स उनके पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहा हैं। साथ ही कमेंट कर लोगों की मदद करने की अपील भी कर रहे हैं।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र समेत 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में हालात बेहर चिंताजनक है। इनमें महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात शामिल हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के मुताबिक देश भर में कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए अबतक कुल 26 करोड़ 78 लाख 94 हजार 549 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। इनमें रविवार को किए गए 13 लाख 56 हजार 133 नमूनों की जांच भी शामिल है।