Delhi Coronavirus Updates: कोरोना के हालात के साथ वैक्सीन और लॉकडाउन से जुड़ी हर जानकारी मिलेगी यहां

 दिल्ली में बढ़ते कोरोना वायरस संक्रमण के बीच इसके खिलाफ जंग भी जारी है। इस बीच सोमवार को 24 घंटे के दौरान दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 20,201 नए मामले सामने आए, लेकिन  380 लोगों की मौत की भी खबर आई है। वहीं, 24 घंटे के दौरान 22,055 मरीज स्वस्थ भी हुए हैं। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 57,690 सैंपल की जांच हुई। आरटीपीसीआर से 38,786 और एंटीजन किट से 18,904 सैंपल जांचें गए। इसमें 35.02 फीसद सैंपल पाजिटिव पाए गए। इससे पहले 22 अप्रैल को संक्रमण दर 36.24 फीसद थी। जो कि सर्वाधिक थी। तीन दिन लगातार गिरावट आने के बाद इसमें फिर से बढ़ोतरी दर्ज की गई।

दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति तेज

छ्त्तीसगढ़ राज्य के रायगढ़ स्थित जिंदल इस्पात संयंत्र से 70 टन ऑक्सीजन लेकर जो ऑक्सीजन एक्सप्रेस रवाना हुई थी। वह मंगलवार तड़के लगभग तीन बजे दिल्ली छावनी रेलवे स्टेशन पर पहुंची। वहीं, आने वाले दिनों में कुछ और स्थानों से रेल मार्ग के जरिये आक्सीजन दिल्ली में पहुंचेगी। इसके बाद दिल्ली सरकार के टैंकर रेलवे स्टेशन से अस्पतालों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का का काम कर रहे हैं।

150 बेड के साथ शुरू हुआ सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर
दिल्ली में छतरपुर स्थित सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर को सोमवार को ही 150 बेड के साथ शुरू कर दिया गया है। शुरू होने के कुछ घंटे बाद ही सभी बेड भर गए। इसके बाद प्रवेश के लिए सैकड़ों मरीज बाहर कतार लगाए खड़े रहे। बाद में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को बैरिकेड लगाने पड़े। एसडीएम साकेत अंकिता मिश्रा ने बताया कि अगले पांच दिन बेडों की संख्या 500 तक बढ़ा दी जाएगी। सेंटर में प्रवेश के लिए जिला सर्विलांस अधिकारी की अनुमति आवश्यक थी, इसलिए मरीजों को बाहर ही खड़े होना पड़ा।

ओडिशा से सर गंगाराम अस्पताल पहुंची दस टन आक्सीजन

सोमवार को सर गंगाराम अस्पताल में आक्सीजन की किल्लत हो गई। अस्पताल प्रशासन के हाथ-पांव फूलने लगे, लेकिन इस दौरान ओडिशा के राउरकेला स्थित ¨जदल स्टील प्लांट से अस्पताल के पास दस टन आक्सीजन पहुंच गई। इससे अस्पताल प्रशासन को बड़ी राहत मिली। इसे सड़क के रास्ते पहुंचने में 48 घंटे लगे। सोमवार सुबह सर गंगाराम अस्पताल की तरफ से बताया गया कि बेहद गंभीर मरीजों को इमरजेंसी या वार्ड से आइसीयू में भेजने के लिए 120 सिलेंडर का इस्तेमाल किया जाता है।

अंडरव‌र्ल्ड डॉन छोटा राजन एम्स में भर्ती

कोरोना वायरस संक्रमित अंडरव‌र्ल्ड डॉन छोटा राजन एम्स में भर्ती है। तिहाड़ जेल प्रशासन ने सोमवार को सेशन कोर्ट को यह जानकारी दी। वर्ष 2015 में इंडोनेशिया के बाली से प्रत्यर्पण के बाद से छोटा राजन तिहाड़ जेल में बंद है। मुंबई में उसके खिलाफ जो भी मामले चल रहे थे, उन्हें सीबीआइ को स्थानांतरित कर दिया गया था। इन मामलों की सुनवाई विशेष कोर्ट कर रहा है। सोमवार को तिहाड़ जेल के असिस्टेंट जेलर ने टेलीफोन के माध्यम से सेशन कोर्ट को बताया कि वह वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से छोटा राजन को पेश नहीं कर सकते हैं, क्योंकि उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और उसे एम्स में भर्ती कराया गया है।

दिल्ली में 18 साल से ज्यादा उम्र वालों को फ्री कोरोना वैक्सीन

दिल्ली सरकार ने 18 साल से ज्यादा उम्र वालों को फ्री वैक्सीन लगाने का फैसला किया है। सोमवार को डिजिटल प्रेस वार्ता में सीएम अर¨वद केजरीवाल ने यह घोषणा की। उन्होंने बताया कि एक करोड़ 34 लाख वैक्सीन खरीदने की मंजूरी दी गई है।बता दें कि देशभर में एक मई से 18 साल से ऊपर वालों को कोरोना वैक्सीन लगाने का कार्य शुरू होगा। सीएम ने यह तो नहीं कहा कि एक मई से दिल्ली में इस उम्र वर्ग के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी, मगर यह जरूर कहा कि जल्द से जल्द वैक्सीन लगाई जाएगी। केजरीवाल ने कहा कि इस महामारी से 18 साल से कम उम्र के किशोर और बच्चे भी बहुत संक्रमित हो रहे हैं। सोचना होगा कि क्या ये वैक्सीन उनको भी लगाई जा सकती है। अगर ऐसा नहीं हो सकता तो उम्मीद है उनके लिए दूसरी वैक्सीन जल्द इजाद होगी।

वैक्सीन के अलग-अलग दाम पर उठाए सवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने डिजिटल प्रेसवार्ता में वैक्सीन के अलग-अलग दाम को लेकर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि वैक्सीन के एक निर्माता ने कहा है कि वो राज्य सरकारों को 400 और दूसरे ने कहा कि वो 600 रुपये में वैक्सीन देगा। केंद्र सरकार को 150-150 रुपये में देगा। उन्होंने कहा कि इसकी एक ही कीमत होनी चाहिए। यह समय लाभ कमाने का नहीं है। उन्होंने वैक्सीन निर्माताओं से अपील करते हुए कहा कि वे कीमत को 150 रुपये पर लेकर आ जाएं। उन्होने केंद्र सरकार से भी अपील की कि दाम पर कै¨पग की जाए।सीएम ने कहा कि जैसा इस वक्त भारत में कोरोना का संक्रमण है वैसा ही संक्रमण कुछ माह पहले इंग्लैंड में भी था। वहां बड़े स्तर पर वैक्सीन लगाई गई। इससे कोरोना को काबू करने में मदद मिली।

दिल्ली-एनसीआर में ज्यादातर जगहों पर लॉकडाउन

दिल्ली में 3 मई तक लॉकडाउन है तो नोएडा-ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत एनसीआर के सभी जिलों में सख्ती के तौर पर धारा-144 लागू है।