बेटे के सपने के लिए त्याग, वाशिंगटन सुंदर को कोरोना से बचाने के लिए पिता ने छोड़ दिया घर

भारतीय टीम के क्रिकेटर वाशिंगटन सुंदर के पिता का कहना है कि वह कोरोना वायरस के खतरे के कारण अपने बेटे से दूर रह रहे हैं। सुंदर इंग्लैंड जाने वाली भारतीय टीम का हिस्सा हैं और वह बुधवार को इंग्लैंड रवाना होने से पहले मुंबई पहुंचे हैं। सुंदर के पिता एम. सुंदर चेन्नई में आयकर विभाग में काम करते हैं, जिस कारण उन्हें सप्ताह में दो-तीन दफ्तर जाना पड़ता है। जब से वाशिंगटन आइपीएल से घर लौटे हैं उनके पिता दूसरे घर में रह रहे हैं।

वाशिंटगन सुंदर के पिता ने कहा, ‘मेरी पत्नी और बेटी वाशिंगटन के साथ रह रहे हैं क्योंकि वे घर से बाहर नहीं निकलती हैं। मैं उससे केवल वीडियो कॉल पर बात कर रहा हूं। मुझे हफ्ते में कुछ दिन ऑफिस जाना पड़ता है। मैं नहीं चाहता कि वह मेरी वजह से कोरोना से संक्रमित हो।’ एम सुंदर ने कहा कि वाशिंगटन का इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट खेलने का सपना है और ऐसा करने का यह सबसे अच्छा मौका है। वह हमेशा लॉर्ड्स और इंग्लैंड के अन्य स्थानों पर खेलना चाहते हैं। यह उनका लंबे समय से लक्ष्य रहा है। वह किसी भी कीमत पर इस दौरे से चूकना नहीं चाहते हैं।

भारत का इंग्लैंड दौरा

2018 में, वाशिंगटन को इंग्लैंड में टी20 और एकदिवसीय सीरीज के लिए चुना गया था, लेकिन दौरे पर अभ्यास सत्र के दौरान लगी चोट के कारण उन्हें वापस लौटना पड़ा। वह एक भी मैच नहीं खेल सके थे। इस साल की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया में पदार्पण करने के बाद से बाएं हाथ के बल्लेबाज ने टेस्ट क्रिकेट में बल्ले से कुछ महत्वपूर्ण योगदान दिया है। बता दें कि टीम इंडिया दो जून को इंग्लैंड रवाना होगी। यहां टीम को पहले 18 जून से न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप खेलना है। इसके बाद अगस्त-सितंबर में इंग्लैंड से पांच मैचों की टेस्ट सीरीज होगी।