ओमिक्रोन को लेकर मोदी सरकार ने किया सर्तक, कहा- वार रूम बने; नाइट कर्फ्यू पर भी विचार करें राज्य

ओमिक्रोन वैरिएंट को लेकर केंद्र की मोदी सरकार अलर्ट मोड में नजर आ रही है। कोरोना के इस नए वैरिएंट के मामले भारत में तेजी से बढ़ रहे हैं। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन (डब्‍ल्‍यूएचओ) पहले ही इसकी संक्रमण की गति को लेकर चेतावनी दे चुका है। अब तक 14 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों तक यह वैरिएंट पहुंच गया है और इसके 210 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। नए वैरिएंट से बढ़ते खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सचेत किया है। केंद्र ने कहा कि ओमिक्रोम के खतरे से निपटने के लिए ‘वार रूम’, एक्टिव कर लें, सक्रिय कदम उठाएं और नाइट कर्फ्यू लगाने जैसे कदम उठाने पर भी विचार करें। भीड़ की स्थिति को नियंत्रित करें। बता दें कि देश की राजधानी में इस समय ओमिक्रोन के सबसे ज्‍यादा 57 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, अमेरिका में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों में 73 फीसद ओमिक्रोन के ही हैं।

देश में ओमिक्रोन के 220 मामले 

केंद्र और राज्यों से मंगलवार देर रात तक मिले आंकड़ों के मुताबिक देश में ओमिक्रोन के मामलों की संख्या बढ़कर 220 हो गई है, जिनमें से 77 संक्रमित अब तक ठीक भी हो चुके हैं। 19 दिन में ही ओमिक्रोन के मामले दो से बढ़कर 220 तक पहुंच गए हैं। दो दिसंबर को ओमिक्रोन का पहला मामला कर्नाटक में मिला था। उस दिन दो मरीज इससे संक्रमित पाए गए थे। मंगलवार को जम्मू-कश्मीर और ओडिशा में भी ओमिक्रोन के मामले मिले। जम्मू में तीन और ओडिशा में दो केस पाए गए हैं। ओडिशा के दोनों मरीज विदेशी नागरिक हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र में 11 और तेलंगाना में चार नए केस सामने आए हैं।

इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में ओमिक्रोन के बढ़ते प्रसार को रोकने के लिए सख्त रणनीतिक उपाय करने को कहा है। इसमें रात का कर्फ्यू लगाना, एक जगह ज्यादा लोगों के एकत्र होने से रोकना, शादी-विवाह और अंतिम संस्कार इत्यादि में शामिल होने वालों की संख्या सीमित करना शामिल है। आपताकालीन संचालन केंद्रों को भी सक्रिय करने की सलाह दी है। साथ ही जिला व स्थानीय स्तर पर निगरानी बढ़ाने और जांच में तेजी लाने को भी कहा है। निज क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमित मिल रहे हों, वहां के नमूनों को तुरंत जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए इंसाकाग की प्रयोगशालाओं को भेजने को कहा गया है। इंसाकाग (इंडियन सार्स-सीओवी-2 कंसोर्टियम आन जेनोमिक्स) स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत गठित 28 प्रयोगशालाओं का समूह है जो देश में अलग-अलग हिस्सों से आए सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग करता है।

मंत्रालय ने कहा है कि वैज्ञानिक आंकड़ों से पता चलता है कि डेल्टा वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रोन वैरिएंट तीन गुना अधिक संक्रामक है। इसलिए अत्यधिक सतर्कता बरतने की जरूरत है। कनार्टक ने 30 दिसंबर से दो जनवरी तक पार्टी जैसे आयोजनों पर रोक लगा दी है। कई अन्य राज्यों ने भी इसी तरह के कदम उठाए हैं।

देश में ओमिक्रोन के मामले

1- महाराष्ट्र 65

2- दिल्ली 54

3- तेलंगाना 24

4- कर्नाटक 19

5- राजस्थान 18

6- केरल 15

7- गुजरात 14

8- जम्मू-कश्मीर 3

9- उत्तर प्रदेश 2

10- ओडिशा 2

11- आंध्र प्रदेश 1

12- तमिलनाडु 1

13- बंगाल 1

14- चंडीगढ़ 1