यमुनानगर में हादसा, सड़क पर गाय आने से ट्रक ने खोया नियंत्रण, पलटा ट्रक

रक्षक विहार नाका जगाधरी पर बुधवार सुबह गाय को बचाते हुए ट्रक पलट गया। ट्रक सरस्वती शुगर मिल से गन्ने की खोई लेकर हिमाचल प्रदेश के कालाआंब स्थित फैक्ट्री में जा रहा था। हादसे में गाय तो बच गई लेकिन ट्रक क्षतिग्रस्त हो गया। सड़क किनारे ट्रक पलटने से यातायात प्रभावित हो गया। आसपास के लोगों ने ट्रक से चालक को बाहर निकाला। ट्रक में भरी गन्ने की खोई भी दूर तक फैल गई। गनीमत यह रही कि खोई के नीचे कोई दबा नहीं।

सरस्वती शुगर मिल में होने वाले गन्ने की पेराई के बाद जो खोई बचती है उसकी हिमाचल प्रदेश की फैक्ट्रियों में खासी डिमांड है। इसका इस्तेमाल गत्ता व कागज बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए रोजाना काफी ट्रक व ट्रैक्टर-ट्रालियां मिल से खोई लेकर हिमाचल प्रदेश में जाती हैं। बुधवार सुबह जब ड्राइवर ट्रक में खोई लेकर कालाआंब जा रहा था तो रक्षक विहार नाका पर अचानक सड़क पर गाय आ गई। गाय को बचाते हुए ट्रक अनियंत्रित हो गया और सड़क किनारे रखे यातायात पुलिस बूथ के सामने पलट गया। ट्रक में भरी गन्ने की खोई भी आसपास फैल गई। पुलिस बूथ भी आधा खोई में दब गया।

बड़ा हादसा बचा

जिस वक्त यह हादसा हुआ तब वहां कोई नहीं था। वरना वहां अक्सर लोग बिलासपुर जाने के लिए बस का इंतजार करते रहते हैं। यदि वहां लोग होते तो वह ट्रक की चपेट में आ सकते थे। आसपास के लोगों ने ट्रक के चालक व मजदूर को बाहर निकाल। दोनों को कोई चोट नहीं आई थी।

शहर में बेसहारा पशुओं की भरमार

शहर में बेसहारा पशुओं की भरमार हो गई है। सैकड़ों की संख्या में गाय व गोवंश सड़कों पर घूम रहे हैं। शायद ही कोई ऐसी सड़क होगी जिस पर आठ-दस गोवंश न बैठे रहते हों। गोवंश लोगों के लिए मुसीबत बन गए हैं। आए दिन इनसे हादसे होते रहते हैं। यह दौड़ते हुए अचानक सड़क पर आ जाते हैं और हादसा हो जाता है। इतना ही नहीं गोवंश लोगों के पीछे दौड़ते हुए उन पर हमला कर देते हैं। रादौर में गोवंश दो लोगों की जान भी ले चुके हैं। जबकि कई को घायल कर चुके हैं।

कैटल फ्री के दावों पर सवाल

नगर निगम शहर को कैटल फ्री करने के दावे कर चुका है। परंतु इसमें सच्चाई बिल्कुल भी नहीं है। उच्चाधिकारियों को दिखाने व कागजी कार्रवाई पूरी करने के लिए पांच-सात गोवंश पकड़ लिए जाते हैं। लोगों का तो यहां तक आरोप है कि एक जगह से पकड़ कर गोवंश दूसरी जगह छोड़ दिए जाते हैं। क्योंकि गोशाला वाले तो पहले ही गोवंश को रखने से मना कर चुके हैं। यही वजह है कि सड़कों पर पहले की तरह गोवंश घूम रहे हैं।