Ahmedabad: छह साल का बच्चा बना दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर प्रोगामर, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम हुआ शामिल

आमतौर पर पांच से छह साल की उम्र में बच्चे पढ़ाई से दूर ही भागते हैं लेकिन इस उम्र में अगर कोई बच्चा दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर प्रोगामर बन जाए तो यह बड़ों-बड़ों को हैरान कर देता है और यह हैरान करने वाला कारनामा किया है, अहमदाबाद के अरहम तलसानिया ने। अरहम ने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दुनिया के सबसे युवा कम्प्यूटर प्रोग्रामर के तौर पर दर्ज किया गया है। कक्षा 2 में पढ़ने वाले छह साल के अरहम तलसानिया ने छह साल की उम्र में शक्तिशाली पायथन प्रोग्रामिंग भाषा परीक्षा क्लियर करके गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। यह परीक्षा 23 जनवरी 2020 को माइक्रोसोफ्ट द्वारा अधिकृत पियर्सन व्यू टेस्ट सेंटर में आयोजित की गई थी।

वहीं इस बारे में तल्सानिया ने मीडिया रिपोर्ट में बताया कि, “मेरे पिता ने मुझे कोडिंग सिखाई है, जब मैं सिर्फ 2 साल का था तब मैंने टैबलेट का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था। 3 साल की उम्र में, मैंने आईओएस और विंडोज के साथ गैजेट्स खरीदे। इसके बाद में मुझे पता चला कि मेरे पिता पायथन पर काम कर रहे थे। अरहम ने बताया कि “जब मुझे पायथन से प्रमाण पत्र मिला, तो उस वक्त मैं छोटे गेम बना रहा था। उन्होंने मुझे काम के कुछ प्रूफ भेजने के लिए कहा था। मैंने भेज दिए। इसके कुछ महीने बाद, उन्होंने मुझे मंजूरी दे दी और मुझे गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड का सर्टिफिकेट मिल गया।

अरहम तल्सानिया भविष्य में एक बिजनेस एंटरप्रेन्योर बनना चाहते हैं। वह इसके सहारे चाहते हैं कि लोगों की मदद कर सकते हैं। इस बारे में बात करते हुए अरहम मीडिया रिपोर्ट में बताते हैं कि “मैं एक बनना चाहता हूं और चाहता हूं कि बिजनेस एंटरप्रेन्योर बनकर जरूरतमंद की मदद कर सकूं। मैं ऐप और गेम डेवलेप करना चाहता हूं।

अरहम तलसानिया के पिता ओम तलसानिया, जो कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। उन्होंने मीडिया रिपोर्ट में बताया कि कहा कि उनके बेटे ने कोडिंग में रुचि दिखाई थीं तो उन्होंने उसे प्रोग्रामिंग की बेसिक्स सिखाई थीं। हालांकि वह बहुत छोटा था, उसे गैजेट्स में बहुत दिलचस्पी थी। वह टैबलेट डिवाइस पर गेम खेलता था। वह पजल्स को भी सॉल्व करता था। इसके अलावा जब उसने वीडियो गेम खेलने में रुचि विकसित की, तो उसने इसे बनाने के लिए सोचा। वह मुझे कोडिंग करते हुए देखता रहता था।