प्रयागराज में RSS के खंड कार्यवाह को मारी गोली, एसआरएन अस्‍पताल में भर्ती, वजह तलाश रही पुलिस

प्रयागराज में आरएसएस के खंड कार्यवाह दिनेश मौर्य को बदमाशों ने गोली मार दी। मऊआइमा के मरखामऊ गांव निवासी दिनेश रोडवेज के संविदा कर्मी और पत्रकार के भाई हैं। सुबह छह बजे बस से उतर कर घर जाते समय मऊआइमा थाने के निकट छपाही बाग के समीप बाइक सवार दो बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया।

गोली सर में लगने से वह गंभीर रूप से जख्मी हो कर सडक़ पर गिर पड़े। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोग पहुंचे और सूचना पुलिस को दी। पुलिस दिनेश को सीएचसी ले गई। वहां हालत नाजुक देख शहर के एसआरएन हॉस्पिटल रेफर किया गया।

गोली मारने का कारण अभी नहीं है स्‍पष्‍ट

दिनेश मौर्या को गोली किन कारणों से मारी गई, यह अभी स्पष्ट नहीं है। फिलहाल गांव में एक पुराने मंदिर को लेकर कुछ लोगों से विवाद बताया जाता है। साथ ही मऊआइमा में अयोध्या मंदिर निर्माण के लिए राष्ट्रीय कार्यालय खोलकर चंदा एकत्र करने में सक्रिय भूमिका निभाने पर कुछ लाेगों द्वारा खुन्नस की बात भी सामने आ रही है। हालांकि, अभी कोई पुलिस अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। पुलिस का कहना है कि हमलावरों का पता लगाया जा रहा है।

दिनेश मौर्य रोडवेज के संविदा कर्मी हैं

मऊआइमा थाना क्षेत्र के मरखामऊ के रहने वाले दिनेश मौर्य लंबे समय से सिविल लाइंस रोडवेज डिपो में संविदा पर तैनात हैं। वे आरएसएस से भी जुड़े हैं और खंड कार्यवाह हैं। दिनेश के बड़े भाई राकेश मौर्या पत्रकार हैं। गुरुवार देर रात घर जाने के लिए वह सिविल लाइंस से रवाना हुए। भोर में मऊआइमा चौराहे पर पहुंचे। यहां से ई-रिक्शे पर सवार होकर घर को निकले।

अभी वह चौराहे से करीब तीन सौ मीटर आगे बढ़े थे कि बदमाशों ने तमंचे से उनको गोली मार दी। गोली दिनेश के सिर में लगी और वह खून से लथपथ होकर सड़क पर गिर पड़े। गोली की आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। सूचना पाकर दिनेश के स्वजन भी घटनास्थल पर आ गए और पुलिस को जानकारी दी। चौकी प्रभारी अपनी कार लेकर पहुंचे और उससे दिनेश को लेकर स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल ले आए। यहां दिनेश की हालत गंभीर बनी हुई है।

इन कारणों से वारदात को अंजाम देने का लगाया जा रहा कयास

दिनेश के भाई राकेश ने बताया कि गांव में एक पुराने मंदिर को लेकर कुछ लोगों से काफी समय से विवाद चल रहा है। साथ ही अयोध्या में मंदिर निर्माण को लेकर मऊआइमा में लोगों से सहयोग लेने के लिए कार्यालय खोला गया था। दिनेश की इसमें सक्रिय भूमिका रहती थी, क्योंकि वे आरएसएस के खंड कार्यवाह हैं। इसे लेकर कुछ लोग उनसे खुन्नस खाते थे। मऊआइमा पुलिस का कहना है कि हमलावराें के बारे में पता लगाया जा रहा है। घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज को भी खंगालने की कोशिश हो रही है।