कैबिनेट और आर्थिक मामलों की समिति की बैठक आज, युद्ध और पड़ोसी देशों के आर्थिक हालात पर हो सकती है चर्चा

केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक आज शाम 7 बजे लोक कल्याण मार्ग पर होगी। इसके अलावा आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) की बैठक भी आज शाम होगी। इस बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को यूक्रेन की स्थिति और आपरेशन गंगा के माध्यम से भारतीय नागरिकों को निकालने पर लोकसभा में हुई चर्चा की सराहना की। उन्होंने कहा कि चर्चा के उच्च स्तर से पता चलता है कि विदेश नीति के मामलों पर आम सहमति है, जो विश्व मंच पर भारत के लिए अच्छा है।

रूस-यूक्रेन युद्ध के बीच भारतीयों की हुई घर वापसी

दरअसल, पीएम मोदी के निर्देश पर चार केंद्रीय मंत्री यूक्रेन से सटे देश गए थे। इनमें हरदीप सिंह पुरी, किरेन रिजिजू, ज्योतिरादित्य सिंधिया और जनरल वीके सिंह शामिल हैं। जिन्होंने यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों और नागरिकों को सुरक्षित निकालने में अहम भूमिका निभाई। वहीं, कांग्रेस नेताओं ने यूक्रेन-रूस संकट से उत्पन्न हुई जटिल भू-राजनीतिक स्थिति का मुद्दा उठाया। इसके जवाब में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि भारत इस युद्ध का शांति से हल चाहता है जो केवल बातचीत से ही निकल सकता है।

लोकसभा में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दिया बयान

लोकसभा में बोलते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि खून बहाकर और मासूमों की जान की कीमत पर कोई समाधान नहीं निकाला जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस युग में संवाद और कूटनीति किसी भी विवाद का सही उत्तर है। अगर भारत दोनों देशों में इसके समाधान में कुछ कर सकता होगा तो वह जरूर अपनी भूमिका निभाएगा। मंत्री ने कहा कि अगर भारत ने एक पक्ष चुना है तो यह शांति का पक्ष है। यह हमारा सैद्धांतिक रुख है और इसने संयुक्त राष्ट्र सहित अंतरराष्ट्रीय मंचों और बहसों में लगातार हमारी स्थिति का मार्गदर्शन किया है।

श्रीलंका को मदद उपलब्ध करा रहा भारत

इसके अलावा विदेश राज्य मंत्री डा राजकुमार रंजन ने सोमवार को यह जानकारी दी है कि भारत श्रीलंका में चल रहे आर्थिक संकट से निपटने में मदद करने के लिए भोजन और ईंधन भी उपलब्ध करा रहा है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष की रिपोर्ट के अनुसार, भारत ने खाद्य सुरक्षा योजना, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के माध्यम से अत्यधिक गरीबी में वृद्धि को टाला है। आईएमएफ के अनुसार, 2019 में भारत में अत्यधिक गरीबी (पीपीपी 1.9 प्रति व्यक्ति प्रति व्यक्ति से कम) 1 प्रतिशत से कम है और यह महामारी वर्ष 2020 के दौरान भी उस स्तर पर बनी हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना, COVID-19 महामारी के दौरान भारत में अत्यधिक गरीबी के स्तर में किसी भी वृद्धि को रोकने में महत्वपूर्ण रही है। आपको बता दें कि बजट सत्र 31 जनवरी 2021 को शुरू हुआ। इसका पहला सत्र 11 फरवरी को समाप्त हुआ था। जबकि 14 मार्च से शुरू हुए संसद के बजट सत्र का दूसरा सत्र 8 अप्रैल को समाप्त होगा।