Coronavirus Alert ! स्टेरॉयड के अधिक इस्तेमाल से कोरोना के मरीजों की गल रही हैं हड्डियां

कोरोना से ठीक हुए मरीजों में कई तरह के फंगल संक्रमण होने की बात सामने आ चुकी है। कुछ दिन पहले साइटोमेगालो वायरस का संक्रमण होने की बात भी सामने आई थी। अब कोरोना से ठीक हुए मरीजों में हड्डियां गलने व कमजोर होने की भी बीमारी देखी जा रही है। एम्स में भी ऐसे चार मरीज देखे जा चुके हैं। एम्स के डाक्टर इसका सबसे बड़ा कारण स्टेरायड का अधिक इस्तेमाल बता रहे हैं। एम्स के आर्थोपेडिक्स विभाग व ट्रामा सेंटर के प्रमुख डा. राजेश मल्होत्रा ने कहा कि कोरोना के पहले से स्टेरायड के अधिक इस्तेमाल के कारण कूल्हे की हड्डी गलने की समस्या से पीड़ित मरीज देखे जाते थे। बुधवार को भी ऐसे तीन मरीजों के कूल्हे बदले जाएंगे, जिन्हें कोरोना नहीं था लेकिन स्टेरायड का इस्तेमाल कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जिम जाने वाले कई युवा बाडी बिल्डिंग के लिए स्टेरायड युक्त फूड सप्लीमेंट का इस्तेमाल करते हैं। स्टेरायड के अधिक इस्तेमाल से हड्डियों में रक्त संचार प्रभावित होता है। इस वजह से हड्डियों में नया कैल्शियम बनने व पुराना कैल्शियम के हटने की प्रक्रिया बंद हो जाती है। इस वजह से हड्डियां कमजोर होने लगती है।

एम्स करेगा शोध

डा. राजेश मल्होत्रा ने कहा कि कोरोना के ठीक होने के बाद हड्डियों की बीमारी पर एम्स में शोध किया जाएगा। इसके लिए भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) से स्वीकृति मांगी गई है।