जगन्नाथ मंदिर आज से खुलेगा, पहले चरण में केवल पुरी के लोगों को अंदर जाने की अनुमति

ओडिशा के पुरी शहर में प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर के दरवाजे बुधवार से भक्तों के लिए खुल गए हैं, नौ महीने से प्रशासन ने कोरोना वायरस बीमारी (कोविड -19) के कारण सभी पूजा स्थलों को बंद कर दिया था। अब एक लंबे समय के बाद यह दोबारा खुले हैं। हालांकि, मंदिर एक क्रमबद्ध तरीके से फिर से खुलेगा। जगन्नाथ मंदिर के पुजारियों के शीर्ष निकाय, छतीसा निजोग के बाद यह निर्णय लिया गया, राज्य सरकार को एक प्रस्ताव भेजा गया जिसमें 12 वीं शताब्दी के मंदिर के फिर से खोलने की सिफारिश की गई।

श्री जगन्नाथ मंदिर प्रशासन (एसजेटीए) के मुख्य प्रशासक डॉ कृष्ण कुमार ने कहा कि पुरी के भक्तों को पहले चरण में पांच दिनों के लिए अनुमति दी जाएगी, जिसके बाद राज्य के बाकी हिस्सों के आने वाले लोग मंदिर में दर्शन कर सकेंगे। डॉ कृष्ण कुमार ने कहा, ‘सभी भक्तों के लिए, मंदिर को 3 जनवरी से खुले जाने की उम्मीद है। 3 जनवरी से मंदिर में प्रवेश के लिए कोविड -19 नेगेटिव रिपोर्ट को अनिवार्य होगा और मंदिर के सेवादारों और SJTA के कर्मचारियों के लिए पहचान पत्र होना चाहिए।’

3 जनवरी से अधिकतम 5,000 भक्तों को दर्शन की अनुमति दी जाएगी। तीर्थ नगरी में नववर्ष के दिन श्रद्धालुओं की भीड़ की संभावना को देखते हुए मंदिर 1 और 2 जनवरी को बंद रहेगा। इस महीने की शुरुआत में, संबंधित राज्य आयोग ने कोविड -19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन करते हुए ओडिशा के मंदिरों को फिर से खोलने की सिफारिश की थी। जगन्नाथ मंदिर के दोबारा खुलने से उम्मीद है कि अगले महीने राज्य भर के बाकी मंदिरों को भी खोला जा सकता है।

भुवनेश्वर में अभी 700 मंदिर हैं, जिसके चारों ओर शहर का धार्मिक जीवन घूमता है। राज्य की राजधानी न केवल पर्यटकों के लिए बल्कि तीर्थयात्रियों के लिए भी एक प्रमुख गंतव्य है। राज्य की राजधानी में श्री लिंगराज मंदिर, अनंत वासुदेव मंदिर, मुक्तेश्वर मंदिर, ब्रह्मेश्वर मंदिर, राजरानी मंदिर हिंदुओं के लिए प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक हैं।