SBI ने किया ब्याज दरों को यथासंभव निचले स्तर पर बनाए रखने का वादा

देश के सबसे बड़े कर्जदाता भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने इकोनॉमी की वृद्धि को समर्थन देने के लिए ब्याज दरों को यथासंभव निचले स्तर पर बनाए रखने का वादा किया है। बैंक के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा ने कहा कि लॉकडाउन पूरे भारत में नहीं लगा है। ऐसे में हमें बैंकिंग क्षेत्र पर इसके असर की समीक्षा के लिए कुछ समय प्रतीक्षा करनी होगी।

खारा का कहना था कि ब्याज दरों पर महंगाई सहित कई चीजों का सीधा असर दिखता है। वर्तमान में बैंक का प्रयास आर्थिक वृद्धि के प्रयासों को समर्थन देना है। यह सुनिश्चित करने के लिए जहां तक संभव हो सकेगा, बैंक ब्याज दरों को निचले स्तर पर बनाए रखने की पूरी कोशिश करेगा। खारा ने कहा कि स्थानीय प्रतिबंधों के आधार पर बैंकों के एनपीए परिदृश्य को लेकर इस समय किसी भी तरह का आकलन किया जाना जल्दबाजी होगी।

कोरोना वायरस महामारी की मौजूदा परिस्थितियों के बीच बैंक द्वारा किये जा रहे प्रयासों के बारे में खारा ने कहा कि बैंक ने देश के सबसे अधिक प्रभावित कुछ राज्यों में गहन चिकित्सा सुविधा (आइसीयू) वाले अस्थायी अस्पताल बनाने का फैसला किया है। बैंक ने इसके लिए 30 करोड़ रुपये की राशि रखी है और वह आपात स्तर पर चिकित्सा सुविधा स्थापित करने को लेकर कुछ गैर- सरकारी संस्थानों (एनजीओ) और अस्पताल प्रबंधन के साथ संपर्क में है।

बता दें कि एसबीआई ने हाल ही में होम लोन (Home Loan) पर ब्याज दरों को घटा दिया है। एसबीआई ने शनिवार को एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि अब बैंक की होम लोन पर ब्याज दरों की शुरुआत 6.70 फीसद से हो रही है।

बैंक ने बताया कि 30 लाख रुपये तक के लोन पर ब्याज दरों की शुरुआत 6.70 फीसद से हो रही है। एसबीआई ने बताया कि 30 लाख से 75 लाख रुपये तक के होम लोन पर 6.95 फीसद से ब्याज दरों की  शुरुआत हो रही है। इसके अलावा 75 लाख रुपये से अधिक के लोन पर बैंक 7.05 फीसद की ब्याज दर की पेशकश कर रहा है।

बैंक महिलाओं को होम लोन पर अतिरिक्त छूट भी दे रहा है। बैंक ने बताया कि वह महिला कर्जदारों को 5 आधार अंक (0.05 फीसद) की विशेष छूट प्रदान कर रहा है।