आखिरी ओवरों में न बल्ले से अच्छा खेल सके न गेंद से : हरमनप्रीत

वेलोसिटी के हाथों महिला टी20 चैलेंज के पहले मैच में पांच विकेट से मिली पराजय के बाद गत चैम्पियन सुपरनोवास की कप्तान हरमनप्रीत कौर ने स्वीकार किया कि उनके गेंदबाज और बल्लेबाज डैथ ओवरों में अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतर सके। जीत के लिये 127 रन का लक्ष्य वेलोसिटी ने एक गेंद बाकी रहते हासिल किया। हरमनप्रीत ने कहा,‘‘ मैच जीतने के लिये अच्छी गेंदबाजी जरूरी है जो हम आखिरी कुछ ओवरों में नहीं कर सके।उन्होंने बहुत अच्छी बल्लेबाजी की। हम बल्लेबाजी में भी आखिरी चार ओवरों का फायदा नहीं उठा सके।’’ उन्होंने कहा,‘‘ लंबे समय बाद खेलना आसान नहीं हैलेकिन इस टूर्नामेंट में जीतकर ही आगे बढा जा सकता है। अगले मैच में सकारात्मक रवैये के साथ उतरना होगा।’’ वहीं विजयी कप्तान मिताली राज ने भी स्वीकार किया कि लंबे समय बाद खेलने में उन्हें परेशानी आई। भारतीय टीम ने आखिरी बार मार्च में मेलबर्न में महिला टी20 विश्व कप फाइनल खेला था जिसमें उसे आस्ट्रेलिया ने हराया था लेकिन मिताली उस टीम का हिस्सा नहीं थी। मिताली ने कहा,‘‘ लंबे ब्रेक के बाद खेलना चुनौतीपूर्ण है। अधिकांश खिलाड़ियों ने टी20 विश्व कप खेला लेकिन मेरे और झूलन के लिये तो ब्रेक काफी लंबा रहा। ’’ उन्होंने कहा,‘‘ मैं पहली पारी में 120 . 130 की ही उम्मीद कर रही थी। कम स्कोर वाले मैचों में अच्छी शुरूआत की जरूरत होती है जो हम नहीं दे सके। बाद में हालांकि वेदा, सुषमा और सुने ने संभाल लिया।’’ उन्होंने कहा कि लगातार मैच खेलना कठिन है क्योंकि रिकवरी का समय ही नहीं है। उन्होंने कहा,‘‘ कल फिर हमें अगले मैच की तैयारी करनी है। यह कठिन है लेकिन हमें ऐसे ही खेलना होगा।’’